पाकिस्तान के दागी क्रिकेटर मोहम्मद आमिर ने लिया सन्यास, PCB पर लगाया गंभीर आरोप

Source : Google
वेबवार्ता डेस्क: पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर ने गुरुवार को घोषणा कर दी कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह रहे हैं।

28 वर्षीय इस पेसर ने एक वीडियो में कहा कि उन्हें नहीं लगता कि वह वर्तमान पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) प्रबंधन के साथ काम कर सकते हैं और यही उनके लिए सबसे अच्छा है कि वह संन्यास ले लें। आमिर (Mohammad Amir) ने कहा कि वह इस पर जल्द ही अपना बयान जारी करेंगे। आमिर ने कहा, ‘ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता कि मैं इस मैनेजमेंट (बोर्ड) के तहत क्रिकेट खेल सकता हूं, मैं क्रिकेट छोड़ रहा हूं। मुझे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है, मैं इसे संभाल नहीं सकता। मैंने इसे 2010-2015 तक काफी देखा है।’

maamir 2
Source : Google

पाकिस्तान के लिए 36 टेस्ट, 61 वनडे और 50 टी20 इंटरनैशनल मैच खेलने वाले इस पेसर ने कहा, ‘मैं शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) का शुक्रगुजार हूं क्योंकि उन्होंने मुझे प्रतिबंध के बाद वापस आने का मौका दिया।’ आमिर का यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

आमिर (Mohammad Amir) ने आगे कहा, ‘हर कोई अपने देश के लिए खेलना चाहता है, वे बस यह कहते रहे कि मैंने दुनिया भर की अन्य लीगों के कारण टेस्ट क्रिकेट खेलना छोड़ दिया है। मैंने बीपीएल के ज़रिए वापसी की है, अगर मैं लीग में खेलने के लिए उतावला होता तो मैं कह सकता था कि मैं पाकिस्तान के लिए खेलना नहीं चाहता।’

उन्होंने कहा, ‘हर महीने कोई न कोई शख्स कहता है कि आमिर ने हमें धोखा दिया। दो दिनों में मैं पाकिस्तान पहुंच जाऊंगा और फिर मैं एक बयान जारी करूंगा।’ आमिर साथ ही वीडियो में यह भी कह रहे हैं कि वह पाकिस्तान पहुंचने के बाद अपने परिवार और दोस्तों से बात करने के बाद आधिकारिक बयान देंगे।

मोहम्मद आमिर द्वारा लिए गए सन्यास पर ICC (International Cricket Council) ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट भी डाला।

आमिर (Mohammad Amir) ने खेल के तीनों फॉर्मेट में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 259 विकेट लिए हैं। आमिर ने 2009 टी20 वर्ल्ड कप के दौरान अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था और वह टी20 विश्व कप विजेता पाकिस्तान टीम का हिस्सा थे। बाद में उसी साल उन्होंने वनडे और टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया।

बता दें कि मोहम्मद आमिर (Mohammad Amir) पर साल 2010 में स्पॉट फिक्सिंग (Spot Fixing) का आरोप लगा था जिसके बाद उनके खेलने पर पांच साल तक का प्रतिबंध लगा दिया गया था। बैन के बाद उन्होंने फिर वापसी की और शानदार गेंदबाज़ी करते हुए पाकिस्तान की टीम को पहली बार चैंपियंस ट्राफी (ICC Champions Trophy) का ख़िताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

2015 में यह घोषणा की गई थी कि आमिर को घरेलू क्रिकेट में जल्द वापसी करने की अनुमति दी जाएगी। इसके बाद वह 2016 में न्यूजीलैंड के दौरे पर वह पाकिस्तान के लिए खेलने के लिए लौटे। पिछले साल, आमिर ने वाइट बॉल क्रिकेट पर ध्यान लगाने के लिए टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। उन्होंने सिर्फ 36 टेस्ट खेलने के बाद अपने करियर को अलविदा कह दिया, जिसमें उन्होंने 119 विकेट झटके।