IPL 2020: खिलाड़ियों की हर 5वें दिन कोविड-19 जांच, जानें इस साल लीग के नियम

New Delhi: इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और सहयोगी सदस्यों को UAE में अभ्यास शुरू करने से पहले कोविड-19 की जांच में 5 बार निगेटिव आना होगा। टूर्नमेंट शुरू होने के बाद उन्हें हर पांचवें दिन कोरोना वायरस जांच करानी होगी।

BCCI के एक अधिकारी ने कहा कि सभी भारतीय खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को भारत में अपनी संबंधित टीमों से जुड़ने के एक सप्ताह पहले 24 घंटे के अंतराल में दो बार कोविड-19 आरटी-पीसीआर टेस्ट कराना होगा।

पॉजिटिव आने पर 14 दिन का आइसोलेशन

जांच में किसी व्यक्ति का नतीजा अगर पॉजिटिव आता है तो वह 14 दिनों तक आइसोलेशन में रहेगा। 19 सितंबर से शुरू होने वाली IPL के लिए UAE रवाना होने के लिए उसके आइसोलेशन अवधि खत्म होने के बाद 24 घंटे के अंतराल में दो बार कोविड-19 आरटी-पीसीआर जांच में निगेटिव आना होगा।

सुरक्षा से कोई समझौता नहीं

अधिकारी ने बताया, ‘UAE पहुंचने के बाद खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों को एक सप्ताह तक आइसोलेशन में रहने के दौरान तीन बार कोविड-19 जांच करानी होगी। तीनों बार निगेटिव आने के बाद वह जैविक रूप से सुरक्षित (बायो-सिक्योर) माहौल में प्रवेश कर के अभ्यास शुरु कर सकते हैं। इस मामले में टीमों से प्रतिक्रिया मिलने के आधार पर इस प्रोटोकॉल में मामूली बदलाव किए जा सकते हैं लेकिन खिलाड़ियों और टीम अधिकारियों की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।’

खिलाड़ियों को मिलने की अनुमति नहीं

UAE में पहले सप्ताह के प्रवास के दौरान टीमों के खिलाडियों और अधिकारियों को होटल में एक दूसरे से मिलने की अनुमति नहीं होगी। जांच में तीन बार निगेटिव आने के बाद ही उन्हें टूर्नमेंट के जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में जाकर अभ्यास करने की अनुमति होगी।

विदेशी खिलाड़ियों का भी कोरोना टेस्ट

विदेशी खिलाड़ियों के सीधे यूएई पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, सभी विदेशी खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को भी UAE के लिए उड़ान भरने से पहले कोविड-19 आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी। वे तभी उड़ान भर सकते हैं, जब उनकी टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव होगी। अगर ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें 14 दिन आइसोलेशन में रहना होगा और दो बार कोरोना वायरस की जांच में निगेटिव आना होगा।

UAE सरकार भी करा सकती है टेस्ट

UAE में खिलाड़ियों और सहायक कर्मचारियों की आइसोलेशन के दौरान पहले, तीसरे और छठे दिन जांच की जाएगी। इसमें निगेटिव रहने के बाद 53 दिनों तक चलने वाले टूर्नमेंट में हर पांचवें दिन उनकी जांच होगी। BCCI परीक्षण प्रोटोकॉल के अलाव टीमों खुद से UAE सरकार द्वारा लागू नियमों के तहत अतिरिक्त टेस्ट करा सकती है।

परिवार को साथ रखने का फैसला टीमों पर

टीमों से कहा गया है कि वे 20 अगस्त से पहले उड़ान ना भरें, जिससे उन्हें जरूरत पड़ने पर आवश्यक परीक्षण प्रोटोकॉल और आइसोलेशन अभ्यास को अंजाम देने में परेशानी ना हो। BCCI ने खिलाड़ियों के परिवार और सहयोगियों को साथ रखने का फैसला टीमों पर छोड़ दिया है। इसके लिए उन्हें भी सख्त जैव-सुरक्षित प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।

परिवार के लिए भी शर्तें

परिवार को जैव-सुरक्षित माहौल से बाहर किसी से मिलने की अनुमति नहीं होगी। दूसरे खिलाड़ियों के परिवारों से मुलाकात के दौरान उन्हें समाजिक दूरी का ख्याल रखना होगा। उन्हें हमेशा मास्क लगाए रखना होगा। अधिकारी ने बताया, ‘परिवारों को खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों के क्षेत्र के अलावा मैच या अभ्यास के दौरान मैदान में आने की अनुमति नहीं होगी।’

प्रोटोकॉल तोड़ा तो?

उन्होंने कहा, ‘जो कोई भी जैव-सुरक्षित प्रोटोकॉल का उल्लंघन करेगा, उसे सात दिनों के लिए खुद को आइसोलेशन में रखना होगा। जैव-सुरक्षित माहौल में वापस आने के लिए उन्हें छठे और सातवें दिन कोविड-19 की जांच में निगेटिव आना होगा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *