UAE में होगा IPL 2020, BCCI ने शेयर किया अपना पूरा प्लान

New Delhi: IPL 2020 in UAE BCCI Share its Plan: इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का इस साल संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में आयोजन होगा। इसे लेकर आईपीएल गवर्निंग काउंसिल (GC) की शनिवार को टेलिकॉन्फ्रेंस के जरिए मीटिंग होगी।

तीन दिन (शनिवार, रविवार और सोमवार) चलने वाली इस मीटिंग में इस लीग के सभी प्रमुख हिस्सेदार (फ्रैंचाइजी मालिक, ब्रॉडकास्टर और सेंट्रल स्पॉन्सर्स) शामिल होंगे।

गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग के बाद बाहर आएगा फाइनल प्लान

गवर्निंग काउंसिल की इस मीटिंग के बाद ही 19 सितंबर से यूएई में शुरू हो रही इस लीग का ‘फाइनल प्लान’ बाहर आएगा। एक दिन पहले ही हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया ने फ्रैंचाइजियों की इन चिंताओं को लेकर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। इस रिपोर्ट के बाद बीसीसीआई ने इस मीटिंग का तारीख का ऐलान कर दिया।

सिर्फ SOP में होगा बदलाव, बाकी सब वैसा ही: बृजेश पटेल

आईपीएल गवर्निंग काउंसिल के चेयरमैन बृजेश पटेल ने मीटिंग की तारीखों का ऐलान करते हुए बताया, ‘आईपीएल की शुरुआत से ही, ठहरने, हॉस्पटेलिटी, यात्राएं आदि की जिम्मेदारी टीम मालिकों की ही रही है। तो इस बार ऐसा कुछ नहीं बदलने जा रहा है। जो भी बदलाव होंगे वे SOP (स्टैंडर्ड ऑपरेंटिंग प्रोसिजर) में बदलाव होंगे, जो कि कोविड के चलते जरूरी हैं।’ बीसीसीआई ने सोमवार को अपनी इन योजनाओं को टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ शेयर किया है।

टीमों को बायो सिक्यॉर बबल में रहना होगा

खिलाड़ियों और टीम स्टाफ की सुरक्षा को ध्यान में रखकर एक सख्त प्रोटोकॉल बनाया जाएगा। प्रत्येक टीम अपना एक बबल (बुलबुला) तैयार करेगी, जिसमें खिलाड़ी अपने इको सिस्टम का ख्याल सीमित लोगों से ही बात कर सकेंगे। इन्हें बीसीसीआई से स्वीकृति मिलेगी। ऐसा ही बबल बीसीसीआई और IMG स्टाफ, ब्रॉडकास्टर्स आदि के लिए बनाया जाएगा। किसी को भी इस बबल से बाहर किसी भी अन्य व्यक्ति (पूर्व निर्धारित कोऑर्डिनेशन को छोड़कर) से बात करने की इजाजत नहीं होगी।

बीसीसीआई के रेवेन्यू पूल में नहीं होगा कोई बदलाव

51 दिनों में आईपीएल के सभी 60 मैच खेले जाएंगे। बीसीसीआई के सेंट्रल रेवेन्यू पूल में कोई बदलाव नहीं होगा। यानी बीसीसीआई अपने राजस्व में उतना ही पैसा लेगा, जितना वह पहले लेता रहा है।

दर्शकों के न होने से गेट मनी गायब

अगर आईपीएल का आयोजन नहीं हो रहा होता तो फ्रैंचाइजियां किसी भी तरह की कमाई नहीं देख पातीं। गेट मनी को जाने दो बोर्ड कहता है यह ‘चंदा’ है।

फ्रैंचाइजियों के जिम्मे ही रहेंगे ट्रैवल और होटल

फ्रैंचाइजियों को यूएई में अपनी यात्राओं का प्रबंध यूएई अथॉरिटीज की संतुष्टि को ध्यान में रखते हुए खुद ही करना होगा। बीसीसीआई यूएई अथॉरिटीज के साथ होटलों से डिस्काउंट रेट को लेकर बात करेगा और फ्रैंचाइजियों को इसकी जानकारी दे देगा। इसके बाद यह फ्रैंचाइजियों की जिम्मेदारी होगी कि बीसीसीआई द्वारा सुझाए गए होटलों में से किस के साथ डील करते हैं या फिर वे अपना अलग प्रबंध करते हैं। खिलाड़ियों को यूएई लेजाने और वापस लाने के लिए उड़ान का प्रबंध भी फ्रैंचाइजियां ही करेंगी।

टीमों को ही रखनी होंगी मेडिकल टीमें

फ्रैंचाइजियों को अपनी खुद की मेडिकल टीम का प्रबंध भी करना होगा। बीसीसीआई सिर्फ सेंट्रल मेडिकल टीम का प्रबंध करेगी। एक बार जब खिलाड़ी यूएई में लैंड कर जाएंगे, तो खिलाड़ियों की टेस्टिंग की जिम्मेदारी भी फ्रैंचाइजियों की ही होगी, जो बीसीसीआई की मेडिकल टीम के साथ 24X7 आधार पर जुड़े रहेंगे। हर फ्रैंचाइजी की मेडिकल टीम भी अपनी-अपनी टीमों के साथ सिक्यॉरिटी बबल में ही रहेंगी।

प्लेयर्स रिप्लेसमेंट ऐंड लोन

खिलाड़ियों की नीति में भी किसी तरह का कोई बदलाव नहीं है और फ्रैंचाइजियां अपने अतिरिक्त खिलाड़ियों को एक साथ यूएई ले जा सकती हैं। इससे अचानक जरूरत पड़ने पर तुरंत ट्रैवल की समस्या नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *