IND vs ENG 1st Test: 178 पर सिमटी इंग्लैंड की दूसरी पारी, भारत को जीत के लिए 420 रनों की दरकार

Webvarta Desk: IND vs ENG 1st Test: भारतीय गेंदबाजों ने इंग्लैंड (England Cricket Team) को पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 178 रन पर समेट दिया लेकिन मेजबान टीम (Team India) को जीत के लिए 420 रन का बड़ा टारगेट मिला। ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin) ने दूसरी पारी में 6 विकेट झटके।

रिकॉर्ड लक्ष्य का पीछा करते हुए चौथे दिन तक भारत (Team India) ने दूसरी पारी में अपना एक विकेट भी गंवा दिया। दिन का खेल खत्म होने पर सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल 15 जबकि चेतेश्वर पुजारा 12 रन बनाकर खेल रहे थे।

भारत (IND vs ENG 1st Test) को अंतिम दिन जीत के लिए 381 रन जबकि इंग्लैंड को नौ विकेट की दरकार है। टूटती पिच पर 90 ओवर में इतने रन बना पाना बेहद मुश्किल होगा इसलिए अगर मैच ड्रॉ भी होता है तो यह मेजबान टीम के लिए अच्छा नतीजा होगा।

अश्विन (61 रन पर छह विकेट) की अगुआई में भारत ने नियमित अंतराल पर विकेट चटकाए जिससे इंग्लैंड की दूसरी पारी 46.3 ओवर में सिमट गई। इंग्लैंड ने अपनी रक्षात्मक रणनीति बरकरार रखी और कप्तान जो रूट (32 गेंद में 40 रन) की छोटी लेकिन आकर्षक पारी के दम पर भारत को रेकॉर्ड लक्ष्य देने में सफल रही।

भारत में लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे बड़ी जीत का रेकॉर्ड मेजबान टीम के नाम दर्ज है जिसने इंग्लैंड को 2008 में इसी एमए चिदंबरम स्टेडियम में चार विकेट पर 387 रन बनाकर हराया था। टेस्ट क्रिकेट में लक्ष्य का पीछा करते हुए सबसे बड़ी जीत का रेकॉर्ड वेस्टइंडीज के नाम दर्ज है जिसने मई 2003 में सेंट जोंस में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सात विकेट पर 418 रन बनाकर जीत दर्ज की थी।

इंग्लैंड के पहली पारी के 578 रन के जवाब में भारत पहली पारी में 337 रन पर सिमट गया लेकिन रूट ने 241 रन की बढ़त के बावजूद फॉलोआन नहीं दिया। भारत की ओर से वॉशिंगटन सुंदर 85 रन बनाकर नाबाद रहे जबकि ऋषभ पंत ने 91 और चेतेश्वर पुजारा ने 73 रन की पारी खेली।

डॉम बेस इंग्लैंड के सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने 77 रन देकर चार विकेट चटकाए। जेम्स एंडरसन (46 रन पर दो विकेट), पेसर जोफ्रा आर्चर (75 रन पर दो विकेट) और जैक लीच (105 रन पर दो विकेट) ने भी 2-2 विकेट हासिल किए।

भारत की दूसरी पारी में गिल एक बार फिर अच्छी लय में दिखे। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने जैक लीच पर चौके से अपना और भारत का खाता खोला और फिर लेफ्ट आर्म स्पिनर के अगले ओवर में दो और चौके मारे। रोहित शर्मा (12) ने जोफ्रा आर्चर की लगातार गेंदों पर चौका और छक्का जड़ा लेकिन लीच की टर्न लेती गेंद को चूककर बोल्ड हो गए। गिल और पुजारा ने हालांकि दिन का खेल खत्म होने तक भारत को और झटके नहीं लगने दिए।

इंग्लैंड की दूसरी पारी में गेंदबाजी का आगाज करने वाले अश्विन ने तेजी से टर्न और उछाल लेती पहली ही गेंद पर रोरी बर्न्स को पहली स्लिप में अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच कराया। वह 114 साल बाद टेस्ट पारी की पहली गेंद पर विकेट चटकाने वाले स्पिनर बने।

भारत ने दूसरे छोर से लेफ्ट आर्म स्पिनर शाहबाज नदीम (66 रन पर दो विकेट) को गेंद थमाई। अश्विन ने दूसरे सलामी बल्लेबाज डॉम सिबली (16) को लेग स्लिप में चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच कराके भारत को दूसरी सफलता दिलाई।

पहली पारी में दोहरा शतक जड़ने वाले रूट ने आते ही नदीम पर दो चौके मारे और फिर अश्विन के ओवर में भी दो चौके जड़े। पेसर ईशांत शर्मा ने डैन लॉरेंस (18) को सीधी गेंद पर पगबाधा किया और टेस्ट क्रिकेट में कपिल देव (434) और जहीर खान (311) के बाद 300 विकेट हासिल करने वाले सिर्फ तीसरे भारतीय तेज गेंदबाज बने। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले छठे भारतीय गेंदबाज हैं।

अश्विन ने पहली पारी में अर्धशतक जड़ने वाले बेन स्टोक्स (07) को विकेटकीपर पंत के हाथों कैच कराके इंग्लैंड को चौथा झटका दिया लेकिन इससे पहले टीम की कुल बढ़त 300 रन के पार पहुंच गई थी। कप्तान विराट कोहली ने 22वें ओवर में जसप्रीत बुमराह को पारी में पहली बार गेंद थमाई और उन्होंने अपने दूसरे ओवर में ही शानदार लय में दिख रहे रूट को पगबाधा कर दिया।

जोस बटलर (24) ने बुमराह पर चौके के साथ खाता खोला और फिर नदीम पर पारी का पहला छक्का जड़ा। चाय के बाद नदीम ने ओली पोप (28) को रोहित के हाथों कैच कराके पारी का पहला विकेट हासिल किया। बटलर और डॉम बेस (25) ने इसके बाद टीम की बढ़त को 400 रन के पार पहुंचाया।

नदीम ने बटलर को स्टंप कराके इस साझेदारी को तोड़ा। अश्विन ने बेस को पगबाधा किया और फिर जोफ्रा आर्चर (5) को बोल्ड करके पारी में 28वीं बार पांच या इससे अधिक विकेट हासिल किए। इस आफ स्पिनर ने एक गेंद बाद जिमी एंडरसन (0) को अपनी गेंद पर लपककर इंग्लैंड की पारी का अंत किया।

सुबह भारत ने दिन की शुरुआत छह विकेट पर 257 रन से की। स्थानीय खिलाड़ी वाशिंगटन 33 रन से आगे खेलने उतरे लेकिन पहले टेस्ट शतक तक नहीं पहुंच पाए। उन्होंने 138 गेंद की अपनी पारी में 12 चौके और दो छक्के मारे तथा अश्विन (31) के साथ सातवें विकेट के लिए 80 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की।

वॉशिंगटन उस समय क्रीज पर अकेले रह गए, जब एंडरसन की गेंद पर स्टोक्स ने स्लिप में शानदार कैच लपकते हुए भारत की पारी का अंत किया। रविवार को पंत की आक्रामक बल्लेबाजी के सामने काफी रन लुटाने वाले लीच ने वॉशिंगटन और अश्विन की साझेदारी को तोड़कर इंग्लैंड को दिन की पहली सफलता दिलाई। उनकी उछाल लेती गेंद पर विकेटकीपर बटलर ने अश्विन का कैच लपका। लीच ने इसके बाद नदीम (0) को स्लिप में स्टोक्स के हाथों कैच कराया जबकि एंडरसन ने ईशांत (4) को पविलियन भेजा।