फ्रेंच ओपन : जोकोविच ने दी नडाल को शिकस्त, सिटसिपास से खिताबी मुकाबला

French Open Djokovic defeats Nadal

पेरिस, 12 जून (वेबवार्ता)। सर्बियाई के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच ने फ्रेंच ओपन टेनिस ग्रैंडस्लैम के चार से ज्यादा घंटे तक चले सेमीफाइनल में ‘लाल बजरी के बादशाह’ राफेल नडाल को शिकस्त दी और अब रविवार को फाइनल में उनका सामना यूनान के 22 वर्षीय स्टेफानोस सिटसिपास से होगा।  

रोलां गैरां में दोनों के बीच यह मुकाबला शानदार रहा जिसमें जोकोविच ने पहला सेट गंवाने के बाद वापसी की और नडाल की 14वें फ्रेंच ओपन और रिकार्ड 21वें ग्रैंडस्लैम खिताब की उम्मीद तोड़ दी। नडाल को लाल बजरी पर हराना किसी के लिये आसान नहीं है और इतिहास में केवल दो ही खिलाड़ी हैं जो ऐसा कर पाये हैं जिसमें जोकोविच ऐसा दो बार कर चुके हैं। जोकोविच ने शुक्रवार रात को दोनों के बीच करियर की 58वीं भिड़ंत में 3-6, 6-3, 7-6 (4), 6-2 से जीत दर्ज की।

शीर्ष वरीय जोकोविच पहला सेट गंवाने के बाद चौथे सेट में 0-2 से पिछड़ रहे थे लेकिन फिर उन्होंने छह गेम जीतकर क्ले कोर्ट मेजर टूर्नामेंट में छठी बार फाइनल में प्रवेश किया। उन्होंने मैच के बाद कहा, ‘‘यह उन रात और मैचों में से एक है जो आपको हमेशा याद रहेंगे।’’

पेरिस में मेरे लिए अब तक का बेस्ट और शानदार मैच रहा : जोकोविच

जोकोविच ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से रोलां गैरां में मेरे मैचों में सर्वश्रेष्ठ मैच था और मैंने अपने पूरे करियर में जो मैच खेले हैं, उसमें टेनिस के स्तर को देखते हुए, कोर्ट (क्ले कोर्ट) में सफलता हासिल करने वाले मेरे सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वी जिसका पिछले 15 से ज्यादा वर्षों से इस पर दबदबा रहा हो, इसे देखते हुए यह शीर्ष तीन मैचों में से एक था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘और माहौल अद्भुत था।’’

नडाल की फ्रेंच ओपन के 108 मैचों में यह तीसरी हार थी और पिछले चार वर्षों से उन्होंने सभी मैच जीते थे जिसमें 2020 फाइनल में जोकोविच को हराना भी शामिल है। नडाल को फ्रेंच ओपन में पहली हार 2009 में रोबिन सोडरलिंग के हाथों मिली थी और फिर जोकोविच ने उन्हें 2015 में हराया था।

चौंतीस वर्षीय जोकोविच ने कहा, ‘‘जब भी आप कोर्ट पर उससे खेलने के लिये उतरते हो तो आप जानते हो कि आपको इस खिलाड़ी के खिलाफ जीत हासिल करने के लिये ‘माउंट एवरेस्ट’ पर चढ़ने जितनी मशक्कत करनी होगी।’’ अब जोकोविच रविवार को दूसरी बार फ्रेंच ओपन खिताब और ओवरऑल 19वीं मेजर चैम्पियनशिप हासिल करने के लिये सिटसिपास के सामने होंगे जिन्होंने छठे वरीय एलेक्जेंडर ज्वेरेव को 6-3, 6-3, 4-6, 4-6, 6-3 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया और वह ऐसा करने वाले यूनान के पहले खिलाड़ी बने। जोकोविच अभी नडाल और रोजर फेडरर (दोनों के 20 ग्रैंडस्लैम खिताब) से दो खिताब पीछे हैं और वह इस अंतर को कम करना चाहेंगे।

टेनिस में जीत और हार दोनों को स्वीकार करना चाहिए : राफेल नडाल

नडाल ने मैच के बाद स्वीकार किया कि टाईब्रेकर के तीसरे सेट में उनके खराब खेल का कारण थकान हो सकता है जिसमें उन्होंने एक डबल फाल्ट की। 35 साल के इस स्पेनिश खिलाड़ी ने कहा, ‘‘गलतियां हो सकती हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अगर आप जीतना चाहते हो तो आप ऐसी गलतियां नहीं कर सकते। यही टेनिस है। जो परिस्थितियों के अनुरूप बेहतर ढंग से खेल पाया, वह जीत का हकदार है। इसमें कोई शक नहीं, वह जीत का हकदार था।’’ यह सेट एक घंटे 33 मिनट तक चला।

नडाल ने स्पेनिश प्रेस से कहा, “हमारे खेल में, आपको जीत और हार दोनों को स्वीकार करना चाहिए। मुझे पता है कि मैं टूर्नामेंट 15, 18, 20 बार नहीं जीत सकता। यह कोई आपदा नहीं है।” उन्होंने कहा, “मैं दुखी हूं, मैं साल के सबसे महत्वपूर्ण टूर्नामेंट में हार गया। लेकिन यह सिर्फ एक टेनिस कोर्ट पर हार है जिसे आप जानते हैं, और कल मैं अपने परिवार के साथ घर पर रहूंगा।” नडाल ने यह भी कहा कि उन्होंने यह तय नहीं किया है कि 28 जून से शुरू होने वाले विंबलडन से पहले वह आगे क्या करेंगे।