Dhanteras 2020: धनतेरस पर पाना चाहते हैं शुभ लाभ तो इन 10 में से कोई 3 चीजें जरूर लाएं घर

New Delhi: धनतेरस (Dhanteras 2020) के दिन बाजार से कुछ ना कुछ नई चीजें खरीद कर लाने की प्रथा चली आ रही है। इस धनतेरस खरीदारी करते समय इन 10 चीजों को याद रखना अतिआवश्यक है।

आइए जानते हैं, क्या हैं (Dhanteras 2020) वो 10 चीजें, जिनके साथ मां का होता है प्रवेश…

धनिया

धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीद कर लाएं और लक्ष्मी पूजा के समय इसकी भी पूजा करें। दीपावली पूजन के बाद घर के आंगन या गमलों में इसे डाल दें क्योंकि यह धनदायक माना जाता है।

गणेश लक्ष्मी की मूर्ति

गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों को धनतेरस के दिन घर लाने से घर में धन संपत्ति बनी रहता है।

सोना-चांदी

धनतेरस के दिन सोना चांदी और धातु का सामान खरीदने से घर में सदैव लक्ष्मी बनी रहती हैं।

गूंजा

धनतेरस के दिन घर में गूंजा लाने से धनप्राप्ति के द्वार खुल जाते हैं। लक्ष्मी पूजन के समय भी इसे पूजा में रखा जाता है।

कौड़ी

कौड़ी को घर में रखने से उस घर में कभी भी धन की कमी नहीं रहती है। पूजन के बाद इन कौड़ियों को लाल कपड़े में बांध कर तिजोरी या धन वाले स्थान पर रखने से धन की कमी कभी नहीं होती है।

शंख

शंख को घर में लाने से घर में लक्ष्मी जी का आगमन होता है।

झाड़ू

झाड़ू से नकारात्मक शक्तियां घर से बाहर जाएंगी और साफ सुथरे घर में माता लक्ष्मी का आगमन होगा।

नमक

इस दिन नमक खरीद कर लाने से साल भर धन का अभाव नहीं होता और सुख समृद्धि घर में ही टिकी रहती है।

श्रीयंत्र

लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए स्फटिक का श्रीयंत्र घर लाएं और पूजा के बाद इस श्रीयंत्र को केसरिया कपड़े में बांधकर तिजोरी या धन स्थान पर रख दें, इससे सदा वहां बरकत बनी रहेगी।

हत्था जोड़ी

धन प्राप्ति के लिए हत्था जोड़ी को भी शुभ माना गया है।

5 रुपये के 8 सामान खरीदकर बन सकते हैं धनवान

शास्त्रों के अनुसार, धनतेरस (Dhanteras) के दिन आर्थिक समस्या को दूर करने के लिए पूजा में कुछ चीजें होती हैं। पूजा में इनका प्रयोग करने से कभी किसी चीज की कमी नहीं होती है। हम आपको पांच-पांच में रुपए में कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं, जिससे आप माता लक्ष्मी और भगवान कुबेर को प्रसन्न कर सकते हैं। आइए जानते हैं शास्त्रों में किन चीजों को पूजा में शामिल करने के लिए बताया गया है…

उल्लू की तस्वीर

उल्लू तस्वीर को धनतेरस (Dhanteras) के दिन तिजोरी या अलमारी में जहां धन रखते हैं वहां चिपका दें। ऐसी मान्यता है कि देवी लक्ष्मी का वाहन उल्लू नकारात्मक उर्जा का नाश करता है। उल्लू की तस्वीर धन स्थान में होने से धन का आगमन बढ़ता है और घर में बरकत आती है।

देवी-देवताओं का माना जाता है वास

धनतेरस (Dhanteras) पर पूजा की सामग्री के लिए तांबूल यानी पान का इस्तेमाल करना चाहिए, ऐसा शास्त्रों में बताया गया है। पान के पत्ते में देवी-देवताओं का वास माना जाता है। इसलिए धनतेरस और दीपावली की पूजा में इसका इस्तेमाल शुभ माना गया है। क्योंकि पान के पत्तों से ही किसी भी पूजन का संकल्प किया जाता है।

नहीं रहता अकाल मृत्यु का भय

दीपावली का आरंभ धनतेरस के दिन से माना जाता है और इसी दिन से दीपदान किया जाता है। इस दिन 5 रुपए के दीप खरीद कर लाएं और घर से बाहर दीप मालिका जलाएं। इससे यमदेव प्रसन्न होते हैं, जिससे अकाल मृत्यु का भय दूर होता है।

तिजोरी में रखना माना जाता है शुभ

धनतेरस (Dhanteras) की पूजा में सुपारी का भी इस्तेमाल किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, सुपारी को ब्रह्मदेव, वरूण देव, यमदेव और इंद्रदेव का प्रतीक माना जाता है। पूजा के बाद सुपारी को तिजोरी या अलमारी में रखना शुभ माना गया है। इससे आपके जीवन में कभी समृद्धि और धन-धान्य की कमी नहीं होती है।

होती हैं आर्थिक समस्या दूर

आर्थिक समस्या दूर करने के लिए धनतेरस के दिन पांच रूपए का साबुत धनिया खरीद कर लाएं। साबुत धनिया को महालक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि के चरणों में अर्पित कर दें। इसके बाद भगवान के सामने अपनी मांग रखें और फिर धनिए को अपने बगीचें में बो दें और कुछ को तिजोरी में लाल कपड़े में बांधकर रख दें।

माता लक्ष्मी का यह है प्रिय भोग

सनातन धर्म में होने वाले सभी शुभ कार्यों में बताशा का प्रयोग किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, बताश माता लक्ष्मी का सबसे प्रिय भोग है। मां की हर पूजा में बताशे का प्रयोग किया जाता है। धनतेरस और दिवाली की पूजा में सच्चे मन से महालक्ष्मी को बताशे का भोग लगाएं। बताशे का संबंध भी चंद्रमा से है, इसलिए धनतेरस पर बताशा माता लक्ष्मी को अर्पित किया जाता है।

घर से नकारात्मक ऊर्जा होती है बाहर

धनतेरस के दिन कपूर से माता लक्ष्मी और भगवान कुबेर के साथ भगवान धनवंतरी की पूजा की जाती है। शास्त्रों के अनुसार, कूपर से मन शांत होता है पूजा स्थल प्रवित्र हो जाता है। कपूर जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा बाहर चली जाती है और सकारात्मक ऊर्जा घर में आती है। जिससे माता लक्ष्मी घर में प्रवेश करती हैं। साथ ही स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।

धन वैभव की होती है प्राप्ति

लक्ष्मी पूजन के लिए खील का प्रयोग करना चाहिए, इसलिए धनतेरस के दिन पांच रूपए के खील खरीद लें। इसके बाद दीपावली के दिन खील से माता लक्ष्मी की पूजा करें और इसे अगले दिन मछलियों को खिला दें या पोटली बनाकर भंडार घर (स्टोर रूम) में रख दें। इससे सुख-शांति व समृद्धि बनी रहेगी।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रुचि को ध्यान में रखकर लिखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *