Neha Shalini Dua

बीजेपी इच्छाशक्ति से काम करती है : नेहा शालिनी दुआ

यह वर्ष अभी आधा ही बीता है और संकट कम होने का नाम ही नही ले रहे हैं। देश में तमाम ऐसे मुद्दे हैं जिससे Yogesh Kumar Soniकुछ दल केन्द्र सरकार को घेरने में लगे हुए हैं जो स्वभाविक भी हैं चूंकि जो सत्ता में होता है सवाल उस ही से पूछे जाते हैं। विपक्ष का कहना है देश में चल रहे कठिन समय को भाजपा सरकार विफल दिखाई दे रही है लेकिन वहीं भाजपा की ओर से यह कहना है कि देश में सब कुछ व्यवस्थित है और जैसा कि अभी पूरी दुनिया के हालात बिगडे हुए हैं, लेकिन भारत में अभी भी सब कुछ ठीक चल रहा है। विपक्ष व जनता के सवाल पूछने के लिए भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता नेहा शालिनी दुआ से वरिष्ठ पत्रकार योगेश कुमार सोनी की बातचीत के मुख्य अंश…

बीते दिनों मेरठ में लव-जिहाद मामला आया है जिसमें एक मुस्लिय युवक ने एक हिंदु औरत व उसकी बेटी को मारकर घर में ही दफना दिया। इस मामलें पर आप क्या कहेंगी?

हर रोज धर्म के नाम पर घिनौना खेल, खेला जा रहा जिसमें कई मुस्लिम युवक लगातार किसी खतरनाक उद्देश्य से कई हिन्दु लडकियों की जिंदगी बर्बाद कर रहे हैं। लडकियों को पहले तो फर्जी नाम से प्रोफाइल बनाकर उनको अपना शिकार बनाते हुए उनसे शादी कर लेते हैं। शादी करने के बाद जल्दी से लडकी को गर्भवती कर देते हैं चूंकि यह बात ऐसे लोग बहुत अच्छे से समझ जाते हैं कि बच्चे होने के बाद लडकी कुछ नही कर पाती और उसके बाद हकीकत पता चलने के बाद फिर लडकी का धर्म परिवर्तन कराने के दबाव बनाते हैं।

Neha Shalini Dua

अधिकतर केसों में लडकी को इनकी बात माननी ही पडती है। और न माने तो मार दिया जाता है जैसा अधिकतर घटनाओं में देखा गया है। ऐसे मामलों में लड़की के परिजन भी कुछ नही पाते चूंकि जो लडकी,लडके का बिना बैक-राउंड जाने या उनके मर्जी के खिलाफ शादी कर लेती हैं तो लडकी के घरवाले उससे रिश्ता खत्म कर लेते हैं। यहां लडकियों को यह समझना चाहिए कि बेटी, मां-बाप के जिगर का वो टुकडा होती है जिसकी वह पूरी जिंदगी सुरक्षा चाहते हैं। लव-मैरिज करना अपराध नही हैं लेकिन यह भी समझना चाहिए कि जिसके साथ पूरी जिंदगी बिताने का फैसला आप ले रहे हो तो उसके बारे में तो जांच-पड़ताल करने में क्या बुराई है।

विगत दिनों केन्द्र सरकार से चाइनीज एपों को प्रतिबंधित किया। इसको मामले को आप कैसे लेती हैं?

यह मोदी सरकार की इच्छाशक्ति का एक बहुत बडा सजीव उदाहरण है जिसको उन्होनें मजबूती के साथ रखा और करीब साठ एपों को प्रतिबंधित किया। इसके अलावा चाइना कई मामलों में घेरना जारी है। मोदी सरकार अंतराष्ट्रीय बंधन से बंधी है लेकिन बावजूद इसके साहसी फैसला लिया गया।

कोरोना से आए आर्थिक संकट से कैसा निकला जाए। क्या रणनीती है आपके पास?

इस बात में कोई दो राय नही कि कोरोना से पैदा हुए संकट पूरी दुनिया प्रभावित है लेकिन हमें मानव जीवन की अप्राकृतिक होने से भी बचाना अनिवार्य है। संकट से निपटने के सरकार ने कई तरह के राहत पैकेज देकर देशवासियों के भरोसे को कायम रखा है। इसके अलावा मैं सभी प्राइवेट संस्थाओं से आग्रह करुंगी कि ऐसे दौर में मानवता का परिचय देते हुए अपनी कंपनी के कर्मचारियों को निकाले नही बल्कि ऐसा करें जिससे दोनो पक्षों का काम चलें। संभवत हो तो आधी सैलरी देकर उनको सुरक्षित करें। इस समय हमें एक-दूसरे का भरपूर साथ देना चाहिए। यदि हम एक-दूसरे की समस्या को नही समझेंगे तो कौन समझेगा। जब संकट आता है तो एकजुट होकर ही निकाला जाता है। इस बार भी एकसाथ होने की जरुरत है।

Neha Shalini Dua

पशु अधिकारों की बात कर करने वाली अंतरराष्ट्रिय संस्था पेटा ने रक्षाबंधन पर विवादित व तथ्यहीन अपील कर डाली है। गाय का नाम लेकर, लेदर फ्री रक्षाबंधन कैंपेन चलाया है जिस तमाम तरह के सवाल खडे सवाल हो रहे हैं। आपका क्या कहना है?

इस संस्था को बैन करना चाहिए। इससे पहले भी इन संस्था ने कई बार हिन्दुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड किया है। 2015 में तमिलनाडु में हाथियों की परेड का विरोध, 2017 में तमिलनाडु के जल्लीकट्टू,2017 में धार्मिक कार्यों में हाथियों के इस्तेमाल,2017 में नागपंचमी पर नागों की पूजा व 2018 में जन्माष्टमी पर गाय के दूध के उपयोग का विरोध किया था।अब जो भी हिन्दुओं की भावनाओं को आघात पहुंचाने वाली संस्था या लोग उन पर एक्शन लिया जाएगा।

पाठको को आपकी ओर से कोई संदेश?

कुछ छोटे-छोटे दल व विपक्ष कठिन समय में अपना योगदान व सुझाव देने की बजाय घटिया राजनीति कर रहे हैं। लेकिन भारतीय जनता पार्टी द्वारा हर काम इनको बहुत चुभता है। हर बात या काम में टांग अडाकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने से स्वयं का ही अपमान होता है, जो इन लोगों का हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *