Adhik Mass Amavasya 2020: आज है अधिकमास अमावस्या, धन प्राप्ति के लिए जरूर करें ये उपाय

New Delhi: अधिकमास अमावस्या (Adhik Mass Amavasya 2020) आज है। इसी के साथ आज अधिकमास समाप्त हो जाएगा। शास्त्रों के अनुसार अमावस्या तिथि का बड़ा महत्व है।

इस दिन (Adhik Mass Amavasya 2020) दान-पुण्य और पवित्र नदी में स्नान किया जाता है। इस दिन विशेष उपाय करने से जातकों को धन और सुख-समृद्धि प्राप्त होता है। आइए जानते हैं अधिकमास की अमावस्या के दिन कौनसे उपाय करने चाहिए…

  • पितरों के निमित्त भूखे लोगों में भोजन के रूप में मीठे चावल जरूर बांटें। ऐसा करने से घर की आर्थिक परेशानी दूर होती है और धन संपत्ति का आगमन होता है।
  • पाप मुक्ति के लिए सर्व पितृ अमावस्या के दिन चीटियों को शक्कर मिला हुआ आटा खिलाएं। ऐसा करने से आपको सभी पापों से मुक्ति मिल जाएगी।
  • इस दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद आटे की गोलियां बनाएं और किसी तालाब या नदी के किनारे जाकर ये आटे की गोलियां मछलियों को खिला दें। ऐसा करने से करने से आपकी सभी परेशानियों का अंत होगा।
  • अमावस्या के दिन अपने घर में एक नीबूं लेकर आएं और इसे सारा दिन अपने घर में रखकर रात के समय 7 बार अपने ऊपर से उतारकर चार भागों में बांटकर किसी चौराहे पर फेंक दें। यह उपाय आपको बुरी नजर से बचाता है।
  • यदि आप कालसर्प दोष से पीड़ित है तो आप सर्व पितृ अमावस्या के दिन चांदी के नाग नागिन की पूजा करें और इसे बहते जल में प्रवाहित कर दें। आपकी कुंडली से काल सर्प दोष दूर हो जाएगा।
  • इस दिन पितरों का आशीर्वाद पाने के लिए ब्राह्मणों को घर बुलाएं और आदर के साथ उन्हें भोजन कराएं और दक्षिणा देकर उन्हें विदा करें। ऐसा करने से आपकी पितृ प्रसन्न होंगे।
  • पितरों की आत्मा की शांति के लिए सर्व पितृ अमावस्या के दिन गाय, कुते और कौए को भोजन अवश्य कराना चाहिए
  • अमावस्या पर काले कुत्ते को तेल से चुपड़ी रोटी खिलाने से शत्रु का भय दूर हो जाता है और शत्रुओं पर विजय मिलती है।
  • अमावस्या के दिन 5 लाल फूल 5 जलते हुए दीए बहती नदी में प्रवाहित कर दें। इस उपाय से आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।
  • अमावस्या के दिन शाम के समय घर के ईशान कोण में पूजा वाले स्थान पर गाय के घी का दीपक जलाएं। ऐसा करने से आपको सभी सुखों की प्राप्ति होगी।
  • मानसिक रूप से परेशानी रहती है तो अमावस्या पर गाय को दही और चावल खिलाएं। अमावस्या के दिन तुलसी की परिक्रमा अवश्य करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *