शनिदेव की टेड़ी नजर से पाना है छुटकारा.. तो आज जरूर करें शनि के इन 10 नामों का जाप

New Delhi: हिंदू धर्मग्रंथों के मुताबिक शनिदेव (Lord Shani) किस्मत का धनी बनाने वाले देवता हैं, क्योंकि वे द’ण्डाधिकारी ही नहीं, कर्मयोगी भी हैं। इसलिए माना जाता है कि किसी भी पुरुषार्थी व्यक्ति से शनि प्रसन्न रहते हैं।

ऐसी शनिदेव (Lord Shani) कृपा के लिए ही शनिवार को पूजा, व्रत, दान के धार्मिक उपायों में शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय भी हैं, जो खासकर कामकाजी लोगों के लिए कम वक्त में पूरे होने के साथ-साथ तेजी से तरक्की में असरदार सिद्ध होते हैं।

ज्योतिष मान्यताओं में भी कुण्डली में बलवान शनिदेव (Lord Shani) भाग्यविधाता माने गए है। शनि को प्रसन्न कर दुर्भाग्य से बचने के ही आसान उपायों में एक है- शनि के नाम मंत्रों को बोलना।

मान्यता है कि शनिदेव के इन नाम (Names of Shanidev) मंत्रों का जप शनि पी’ड़ा दूर करने के साथ बेहतर सेहत, दौलत, अन्न, विद्या, बल और पराक्रम, सौभाग्य जैसी सभी कामनाओं को पूरा करने वाला है।

इन 10 नाम (Names of Shanidev) मंत्रों का ध्यान या जप शनि मंदिर या शिवलिंग स्वरूप में विराजित शनिदेव के मंदिर में करें। अगर इन नामों का नित्य जप किया जाए तो शनिदेव अपने भक्त की हर परेशानी दूर कर देते हैं। ये प्रमुख 10 नाम इस प्रकार हैं-

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:। सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

अर्थात: 1- कोणस्थ, 2- पिंगल, 3- बभ्रु, 4- कृष्ण, 5- रौद्रान्तक, 6- यम, 7, सौरि, 8- शनैश्चर, 9- मंद व 10- पिप्पलाद। इन दस नामों से शनिदेव का स्मरण करने से सभी शनि दोष दूर हो जाते हैं।

नोट: हमारा उद्देश्य किसी तरह के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है। यह लेख लोक मान्यताओं और पाठकों की रुचि को ध्यान में रखकर लिखा गया है।