India china

लद्दाख: पैंगोंग झील के पास 29-30 अगस्त की रात क्या हुआ? भारतीय सेना ने बताई एक-एक बात

New Delhi: चीन ने फिर से समझौतों का उल्लंघन (India China Standoff) करते हुए पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में अतिक्रमण करने की कोशिश की है। भारतीय सेना (Indian Army) ने बताया कि चीनी सैनिकों ने उस इलाके में अपना आक्रामक रवैया दिखाया है जहां पर किसी तरह की गतिविधि नहीं करने पर सहमति बनी थी।

आइए जानते हैं कि ताजा विवा’द (India China Standoff) को लेकर भारतीय सेना (Indian Army) ने क्या कहा है…

भारतीय सेना का पूरा बयान

भारतीय सेना (Indian Army) ने पेंगोंग त्सो एरिया (Pangong Lake) में चीन के आक्रा’मक रवैये को लेकर बताया कि 29/30 अगस्त की दरम्यानी रात को पीएलए के सैन्य दलों ने उस सहमति का उल्लंघन किया जो पूर्वी लद्दाख में जारी त’नाव के दौरान सैन्य एवं कूटनीतिक बातचीत के दौरान बनी थी। चीनी सैनिकों ने यथास्थिति को बदलने के लिए उकसावे की सैन्य गतिविधियां कीं।

सेना (Indian Army) ने बताया कि भारतीय सैनिकों ने पेंगोंग त्सो झील (Pangong Lake) के दक्षिणी किनारे पर पीएलए की गतिविधि को रोकते हुए हमारी स्थिति मजबूत करने के कदम उठाए और जमीनी हकीकत को एकतरफा बदलने की चीन की मंशा को ध्वस्त कर दिया।

भारतीय सेना (Indian Army) बातचीत के जरिए शांति और स्थिरता कायम रखने को लेकर प्रतिबद्ध तो है लेकिन अपनी क्षेत्रीय अखंडता को अक्षुण्ण बनाए रखने को लेकर भी उतना ही दृढ़ निश्चयी है। विवा’दों को सुलझाने के लिए चुसूल में ब्रिगेड कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग चल रही है।

दगाबाजी के कुख्यात है चीन

ध्यान रहे कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिं’सक झ’ड़प हुई थी जिसमें 20 भारतीय सैनिक श’हीद हो गए थे जबकि 40 चीनी सैनिकों के मा’रे जाने की भी खबर है। उसके बाद दोनों देशों के बीच सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर बातचीत के कई दौर चले और फिर कई इलाकों से सेनाएं भी पीछे हटाई गईं।

बातचीत में उन इलाकों को भी चिह्नित किया गया जहां भारत और चीन की सेना पेट्रोलिंग नहीं करेंगी। लेकिन दगाबाजी के लिए कुख्यात चीनी सैनिकों ने फिर से वही किया जिसकी आशंका हमेशा बनी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *