लेह के मैप में फिर से ‘गड़बड़ी’, Twitter को भारत में ब्‍लॉक कर सकती है मोदी सरकार

New Delhi: मशूहर सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर (Twitter) को भारत में निलंबित या ब्‍लॉक किया जा सकता है। लेह (Leh Map) को लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश के बजाय जम्‍मू और कश्‍मीर का हिस्‍सा दिखाने पर सरकार ने कंपनी को कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है।

एक उच्‍च अधिकारी ने कहा कि ट्विटर इंडिया (Twitter India) के खिलाफ FIR दर्ज की जा सकती है। सरकार इस हरकत को ‘भारत की संप्रभु संसद की इच्‍छाशक्ति को नीचा दिखाने के लिए ट्विटर की तरफ से जान-बूझकर की गई कोशिश’ की तरह देख रहा है। संसद ने पिछले साल अगस्‍त में लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश घोषित किया था। लेह में उसका मुख्‍यालय है।

सरकार ने ट्विटर से पूछा, क्‍यों न लें लीगल ऐक्‍शन?

सरकार ने सोमवार को ट्विटर (Twitter) के नोटिस जारी करते हुए 5 दिन के भीतर जवाब मांगा है। इससे पहले जब लेह (Leh Map) को चीन को हिस्‍सा दिखाया गया था, जब ट्विटर के संस्‍थापक जैक डॉर्सी को नोटिस भेजा गया था। (वह गलती सुधार ली गई है लेकिन भारत के कंट्री टैग को अपडेट किए जाने की जरूरत है।)

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने सोमवार को ट्विटर के ग्‍लोबल वाइस प्रेजिडेंट को भेजे नोटिस में पूछा है कि ‘गलत मानचित्र दिखाकर भारत की क्षेत्रीय संप्रभुता का अपमाान करने के लिए ट्विटर और उसके प्रतिनिधियों पर कानूनी कार्रवाई क्‍यों न की जाए?’

अगर नहीं माना ट्विटर तो क्‍या होगा?

एक सूत्र के मुताबिक, अगर Twitter वर्तमान नोटिस का जवाब नहीं देता तो सरकार कानूनी कार्रवाई करेगी। सूत्र ने कहा, “भारत के मानचित्र से छेड़छाड़ करने के लिए हम भारत में ट्विटर के हेड के खिलाफ आपराधिक कानून संशोधन अधिनियम, 1961 के तहत एफआईआर दर्ज कर सकते हैं। इसके तहत छह महीने की जेल तक का प्रावधान है। इसके अलावा सरकार जो कानूनी रास्‍ता अपना सकती है, वह आईटी ऐक्‍ट है। उसकी धारा 69A के तहत कंपनी को ब्‍लाक किया जा सकता है।

एक सूत्र ने कहा, “भारत की क्षेत्रीय अखंडता पर सवाल उठाने या ऐसा कंटेट दिखाने जिससे भारत की क्षेत्रीय अखंडता को चोट पहुंचती हो, तो कंपनी के संसाधन, ऐप या वेबसाइट को ब्‍लॉक किया जा सकता है।” अगर ट्विटर शनिवार शाम तक जवाब नहीं देता तो उसके खिलाफ गंभीर कार्रवाई हो सकती है।

संपर्क करने पर ट्विटर के एक प्रवक्‍ता ने कहा कि कंपनी ने पहले ही सरकार को एक विस्‍तृत जवाब भेजा है।

हालांकि सूत्रों ने कहा कि ‘ट्विटर अभी केंद्रशासित प्रदेश टैग दिखाने पर काम कर रहा है और यह नवंबर के आखिर तक हो जाना चाहिए।’ IT मंत्रालय इस मामले को ‘गंभीर’ मान रहा है और मंत्रालय के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने 21 अक्‍टूबर को डॉर्सी को लिखा था। जब लेह को ट्विटर चीन का हिस्‍सा बता रहा था।

वह मुद्दा तो सुलझ गया है लेकिन अब लेह को जम्‍मू और कश्‍मीर का हिस्‍सा बताया जा रहा है। साहनी ने डॉर्सी से भारत की संवदेनशीलताओं का ध्‍यान रखने को कहा था। सितंबर में सरकार ने ट्विटर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट से जुड़ा अकाउंट हैक होने पर सफाई मांगी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *