34.1 C
New Delhi
Monday, September 25, 2023

2024 की राह इतनी आसान नहीं, I.N.D.I.A को बचाने के लिए कांग्रेस को देनी होगी कुर्बानी!

नई दिल्ली, (वेब वार्ता)।देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को 2024 के आगामी लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को बहुमत से दूर रखने के लिए उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, बिहार और महाराष्ट्र जैसे महत्वपूर्ण राज्यों में बड़ा दिल दिखाते हुए छोटे दलों के लिए बलिदान देने की जरूरत है। कांग्रेस अब तक दो बड़ी विपक्षी बैठकें आयोजित करने में कामयाब रही है – एक बिहार में और दूसरी कर्नाटक में। इन बैठकों का मुख्य आकर्षण संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) का नाम बदलकर ‘भारतीय राष्ट्रीय विकासात्मक समावेशी गठबंधन’ या ‘इंडिया’ करना था।

कांग्रेस 2019 के लोकसभा चुनाव में 421 सीटों पर लड़ी थी और 373 पर भाजपा से उसकी सीधी टक्कर थी। वहीं भाजपा ने 2019 का चुनाव 435 सीटों पर लड़ा था जबकि बाकी सीटों पर उसके गठबंधन सहयोगियों ने चुनाव लड़ा था। पूर्व पार्टी प्रमुख राहुल गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आक्रामक अभियान चलाने के बावजूद सबसे पुरानी पार्टी 2019 के लोकसभा चुनावों में केवल 52 सीटें जीतने में सफल रही। चार साल बाद, 2023 में, कांग्रेस लोकसभा चुनावों में लगातार दो बड़ी हार झेलने के बाद भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए से मुकाबला करने के लिए 26 विपक्षी दलों को एक साथ लेकर आई है। इनमें वे दल शामिल हैं जिनका कुछ राज्यों में मजबूत आधार है जबकि अन्य दलों के पास राज्य विधानसभाओं या संसद में कोई विधायक या सांसद नहीं है।

2024 में विपक्ष के वोटों का बिखराव रोकना होगा

बिहार और कर्नाटक में दोनों विपक्षी बैठकों का हिस्सा रहे एक पार्टी नेता ने कहा कि 26 विपक्षी दलों को एक साथ लाना लोकतंत्र और संविधान को बचाना है जिस पर हमला हो रहा है। उन्होंने कहा कि विचार यह है कि भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों के वोटों में बिखराव को रोका जाए। उन्होंने कहा कि ये सभी दल भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए के रथ को रोकने के लिए एक साथ आए हैं जो 542 सीटों में से 353 सीटें जीतने में कामयाब रहा। अकेले भाजपा ने 2019 के चुनाव में 303 सीटें जीती थीं। पार्टी नेता ने कहा कि 2019 में भाजपा के खिलाफ सीधे चुनाव लड़ने वाली सीटों को देखते हुए पार्टी में विस्तृत चर्चा चल रही है और वह अभी भी देश भर में कम से कम 400 सीटों पर लड़ने की कोशिश करेगी।

इस बीच, पार्टी के एक सूत्र ने कहा कि बैठक के बाद एक सुखद तस्वीर पेश करने के बावजूद आगे की राह बहुत आसान नहीं है क्योंकि इसके लिए बहुत गंभीर बातचीत की आवश्यकता है जिसमें उन राज्यों में बलिदान शामिल है जहां क्षेत्रीय दल इसके मुख्य प्रतिद्वंद्वी हैं। उन्होंने कहा कि एक साथ तस्वीरें खिंचवाने का विकल्प तभी काम करेगा जब पार्टियां बड़े दिल से बलिदान, समायोजन और सीट साझा करने के लिए तैयार होंगी, जिसके लिए बहुत नाजुक विचार-विमर्श की आवश्यकता होगी।

कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगी बलिदान की राह

सूत्र ने कहा कि छह प्रमुख राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र में बातचीत को संतुलित करने की जरूरत है। ये राज्‍य लोकसभा में 280 से अधिक सांसद भेजते हैं। इनमें से अधिकांश राज्यों में, विपक्षी दलों, विशेष रूप से क्षेत्रीय दलों की अपनी मजबूत उपस्थिति है, जहां कांग्रेस मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी में से एक है। सूत्र ने बताया कि अब सबसे पुरानी पार्टी के लिए उनके साथ आना, भले ही एक उच्च उद्देश्य के लिए, आसान नहीं होगा।

सूत्र ने उदाहरण देते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) की 80 संसदीय सीटों वाले उत्तर प्रदेश में मजबूत उपस्थिति है। सपा का 2019 में मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ गठबंधन था और वह पांच सीटें जीतने में सफल रही। अखिलेश यादव ने पिछले विधानसभा चुनाव से पहले बसपा का साथ छोड़कर जयंत चौधरी के राष्‍ट्रीय लोकदल (आरएलडी) से हाथ मिला लिया जिसके पास लोकसभा में एक भी सांसद नहीं है। सूत्र ने कहा, ‘इसलिए उन्हें राज्य में सीटों के लिए सहमत करना सबसे पुरानी पार्टी के लिए आसान काम नहीं होगा क्‍योंकि वह खुद 2019 में राज्य में केवल एक सीट जीत सकी और पूर्व कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी भी चुनाव हार गए थे।’

ऐसी ही स्थिति बिहार में है, जहां कांग्रेस लालू प्रसाद यादव के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनता दल और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जनता दल-यूनाइटेड जैसे मजबूत क्षेत्रीय दलों के साथ महागठबंधन का हिस्सा है। बिहार में लोकसभा की 40 सीटें हैं। वहां एनडीए ने 2019 के आम चुनावों में 39 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस और राजद ने एक भी सीट नहीं जीती थी। हालांकि उस समय एनडीए का हिस्‍सा रहे जद-यू ने 16 सीटें जीती थीं। हालांकि, नीतीश कुमार के एक बार फिर एनडीए छोड़कर पुराने गठबंधन में शामिल होने से गठबंधन सहयोगियों का मनोबल बढ़ा है। कांग्रेस इस बार बिहार में कम से कम 10 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए उत्सुक है। सूत्र ने कहा कि लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के साथ सीट बंटवारे पर चर्चा करना कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा।

AAP के साथ गठबंधन ने बढ़ाई कांग्रेस की मुश्किलसाथ ही दिल्ली और पंजाब में बातचीत के दौरान कांग्रेस को मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है। पिछली बार 2019 के लोकसभा चुनाव में दिल्‍ली में कांग्रेस और आप दोनों एक भी सीट नहीं जीत सकी थी। सभी सात सीटें भाजपा की झोली में गई थीं। सूत्र ने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन, तीन बार की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित सहित कई कांग्रेस नेताओं ने पहले ही पार्टी नेतृत्व को 2024 के लोकसभा चुनावों में आप के साथ कोई गठबंधन नहीं करने के बारे में स्पष्ट कर दिया है। सूत्र ने कहा, ‘खड़गे ने पिछले महीने दिल्ली के नेताओं की राय ली थी। केंद्र के अध्यादेश विवाद पर आप सरकार को पार्टी के समर्थन को देखते हुए केंद्रीय नेतृत्व और प्रदेश के नेताओं के बीच एक मतभेद भी पैदा हो गया है।’ उन्होंने आगे कहा कि आप के साथ गठबंधन होने से कांग्रेस नेता घुटन महसूस करेंगे।

पंजाब में भी यही स्थिति है, जहां एक साल पहले तक कांग्रेस सत्ता में थी। राज्य के नेता आप के साथ गठबंधन की पार्टी की इच्छा के खिलाफ हैं, जिसने 2022 के विधानसभा चुनावों में इसे खत्म कर दिया। कांग्रेस 2019 के लोकसभा चुनावों में राज्य की 13 सीटों में से आठ सीटें जीतने में सफल रही थी जबकि भाजपा गठबंधन ने चार सीटों पर जीत हासिल की थी और एक सीट आप ने जीती थी। पंजाब कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि पिछले साल विधानसभा चुनाव में आप के हाथों हार के बाद भी पार्टी राज्य में मुख्य विपक्षी दल है। उन्होंने कहा कि पार्टी को पंजाब को अलग तरीके से देखने की जरूरत है और इसकी तुलना दिल्ली इकाई से नहीं की जानी चाहिए, जहां वह भाजपा से भी पिछड़कर तीसरे स्थान पर चली गई है।

दूसरी ओर, बिहार, उत्‍तर प्रदेश, पंजाब और दिल्‍ली में अपनी उदारता के बदले कांग्रेस पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में अपने गठबंधन सहयोगियों से ज्‍यादा सीटों की मांग करेगी। महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 और पश्चिम बंगाल में 42 सीटें हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,145FollowersFollow

Latest Articles