Tuesday , 28 January 2020

शाह और नड्डा ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनके बलिदान दिवस पर श्रद्धांजलि दी

नई दिल्ली, 23 जून (वेबवार्ता)। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने रविवार को जनसंघ के संस्थापक डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनके बलिदान दिवस पर नमन किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी।

शाह ने अपने ट्वीट में कहा कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के लिए सिर्फ राष्ट्र सर्वोपरि था इसीलिए उन्होंने सत्ता का त्याग कर देश की एकता और अखंडता के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया। उन्होंने कहा कि एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान के विरुद्ध डॉ. मुखर्जी ने स्वतंत्र भारत का पहला राष्ट्रवादी आंदोलन छेड़ा था।

शाह ने दावा किया कि भारत के पुनर्निर्माण के उद्देश्य से डॉ. मुखर्जी ने जनसंघ की स्थापना की थी। आज यदि हम जम्मू-कश्मीर में बिना परमिट के जा सकते हैं और पश्चिम बंगाल भारत का अभिन्न अंग है तो उसके पीछे डॉ. मुखर्जी का बलिदान है। उन्होंने कहा कि ऐसे अभिजात देशभक्त के बलिदान दिवस पर उनके चरणों में कोटि-कोटि वंदन।

अमित शाह और जे पी नड्डा ने भाजपा मुख्यालय में श्यामा प्रसाद मुखर्जी को पुष्पांजलि अर्पित की। भाजपा कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने इस अवसर पर कहा कि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी किसी पद से जुड़े व्यक्ति नहीं थे और वह देश की सेवा करने के लिए आगे बढे थे। नड्डा ने बताया कि उन्होंने कहा था कि भारत के तिरंगे का ही सम्मान होना चाहिए इसीलिए दो निशान, दो विधान और दो प्रधान नहीं चलेंगे। उन्हीं के बलिदान के कारण ही आज जम्मू कश्मीर से परमिट की व्यवस्था समाप्त हुई है। भाजपा नेता ने कहा कि डॉ मुखर्जी प्रखर राष्ट्रवादी, दूरद्रष्टा और दिशा देने वाले नेता थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *