Ram Mandir: साढ़े तीन साल बाद बनकर बिल्कुल ऐसा दिखेगा राम मंदिर, देखिए झलक

New Delhi: 492 साल के लंबे इंतजार के बाद अयोध्या रामजन्मभूमि (Ram Janmbhumi) पर राम मंदिर के निर्माण (Ram Mandir Nirman) का शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के हाथों से हुआ।

वहीं, राम मंदिर ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) ने भव्य मंदिर के प्रस्तावित मॉडल की तस्वीरें भी जारी कर दी हैं। मंदिर (Ram Mandir) का यह डिजाइन वास्तुकार निखिल सोमपुरा (Nikhil Sompura) ने तैयार किया है।

रामलला के मंदिर (Ram Mandir) के लिए इससे पहले VHP का पुराना मॉडल हमारे सामने था। इसे निखिल के पिता चंद्रकांत सोमपुरा ने तैयार किया था। अब पुराने डिजाइन में कुछ बदलाव किया गया है। मंदिर के नए मॉडल में ऊंचाई, आकार, क्षेत्रफल और बुनियादी संरचना में भी काफी परिवर्तन है।

साढ़े तीन साल में बनेगा मंदिर

आर्किटेक्ट प्रॉजेक्ट के अनुसार मंदिर (Ram Mandir) को बनकर तैयार होने में तीन से साढ़े तीन साल का समय लगेगा। मंदिर तीन मंजिला होगा और यह वास्तुशास्त्र के हिसाब से बनाया जाएगा।

पांच गुंबद, 161 फीट ऊंचाई

मंदिर के शिखर की ऊंचाई बढ़ाकर 161 फुट की गई है। इसके साथ ही गुंबदों की संख्या तीन से बढ़ाकर पांच की गई है। मंदिर के जमीन का आकार भी बढ़ा दिया गया है।

ऊंचाई में 33 फीट की वृद्धि

राम मंदिर की ऊंचाई में 33 फीट की वृद्धि की जा रही है। इसी वजह से एक और मंजिल बढ़ाना पड़ा है। मंदिर के पुराने मॉडल के हिसाब से मंदिर की लंबाई 268 फीट 5 इंच थी। इसे बढ़ाकर 280-300 फीट किया जा सकता है।

गर्भगृह के ऊपर होगी मंदिर की चोटी

जहां रामलला का गर्भगृह बनेगा, उसके ऊपर के हिस्से को ही शिखर बनाए जाएगा। मंदिर में पांच गुंबद होंगे। पहले के मंदिर मॉडल में सिर्फ दो ही गुंबद थे लेकिन नए मॉडल में मंदिर की भव्यता को बढ़ाने के लिए इसे 5 कर दिया गया है।

गुंबदों के नीचे श्रद्धालुओं की व्यवस्था

राम मंदिर के पांचों गुंबदों के नीचे के हिस्से में चार हिस्से होंगे। इसमें सिंहद्वार, नृत्य मंडप, रंगमंडप बनेगें। यहां श्रद्धालुओं के बैठने विचरण करने और विविध कार्यक्रम आयोजित करने के लिए जगह रहेगी।

मंदिर के भव्य गुंबद

राम मंदिर के प्रस्तावित मॉडल में गुंबद की भव्यता देखते बन रही है।

दिल्ली की कंपनी चमका रही पत्थर

मंदिर की भव्यता बढ़ाने के लिए इसका जमीनी क्षेत्रफल भी बढ़ाया गया है। मंदिर में पत्थर वही लगेंगे जो राम मंदिर कार्यशाला में तराश कर रखे गए हैं। इन पत्थरों की साफ सफाई कर चमकानें का काम दिल्ली की कंपनी कर रही है।

20-25 फीट नींव की खुदाई

मिट्टी परीक्षण की रिपोर्ट के आधार पर मंदिर के लिए नींव की खुदाई होगी। यह 20 से 25 फीट गहरी हो सकती है। प्लैटफॉर्म कितना ऊंचा होगा इस पर निर्णय राम मंदिर ट्रस्ट करेगा। अभी 12 फीट से 14 फीट तक की ऊंचाई की बात चल रही है।

मंदिर में 300 से ज्यादा स्तंभ

राम मंदिर के नए मॉडल के मुताबिक, पूरे मंदिर में कुल 318 स्तंभ होंगे। मंदिर के प्रत्येक तल पर 106 स्तंभ बनाए जाएंगे।

कितनी लागत?

मंदिर के शिल्पकार चंद्रकांत सोमपुरा की माने तो मंदिर बनने में कम से कम 100 करोड़ रुपये की लागत आएगी। उन्होंने यह भी कहा है कि यह खर्च बढ़ सकता है। निर्माण की अवधि की सीमा तय की जाएगी तो ज्यादा संसाधन चाहिए होंगे। इससे बजट भी बढ़ेगा।

शिल्प शास्त्र की गणनाओं से बनेगा मंदिर

राम मंदिर का डिजाइन नागर स्टाइल का है। इसे शिल्प शास्त्र को दिमाग में रखकर बनाया गया है। बताया गया कि प्रत्येक गणना बहुत विशेष है। उदाहरण के तौर पर, कोई भी आयाम गर्भगृह से बड़ा नहीं हो सकता है। इसके अलावा गर्भगृह का मुख किस तरह होना चाहिए? जैसी बातों का भी खास ध्यान रखा गया है।

साढ़े तीन साल में बन जाएगा मंदिर

5 अगस्त को नींव की पहली ईंट रखे जाने के बाद मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा। बताया जा रहा है कि साढ़े तीन साल के अंदर मंदिर का काम पूरा होगा। अब लोगों को इंतजार है कि यह समय जल्द से जल्द पूरा हो और एक बार फिर से जन्मभूमि मंदिर में निर्बाध रूप से भगवान राम का दर्शन शुरू हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *