PM मोदी ने खत्म किया 492 सालों का सूखा, चांदी की ईंट रख किया राम मंदिर निर्माण का शुभारंभ

New Delhi: अयोध्या में भव्य श्रीराम जन्मभूमि मंदिर (Ayodhya Ram Mandir Nirman) निर्माण का PM मोदी (PM Modi) ने आज शुभारंभ किया।

बुधवार को शुभ मुहूर्त पर दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के हाथों श्रीराम जन्मभूमि स्थल पर मंदिर निर्माण (Ayodhya Ram Mandir Nirman) के लिए भूमिपूजन की शुरुआत हुई। इसी के साथ 492 सालों का सूखा आज खत्म हो गया है।

इसके साथ ही राम मंदिर निर्माण (Ayodhya Ram Mandir Nirman) के कार्य का शुभारंभ हो गया। इस दौरान यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे।

पीएम मोदी ने चांदी की ईंट रख किया शिलान्यास

पीएम मोदी (PM Modi) अयोध्या पहुंचने के बाद बुधवार को 20 मिनट तक चले अनुष्ठान में शामिल हुए। इसके बाद ठीक 12 बजकर 44 मिनट आठ सेकेंड से 12 बजकर 44 मिनट 40 सेकेंड के बीच 32 सेकेंड के शुभ मुहूर्त में पीएम मोदी ने राम मंदिर (Ayodhya Ram Mandir Nirman) का शिलान्यास किया। मंदिर की नींव पर पीएम मोदी ने चांदी की नौं ईंटे रखी।

भूमि पूजन (Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan) के साथ ही करोड़ों रामभक्तों की प्रतीक्षा के साथ उनके सारे संशय और असमंजस भी समाप्त हो गए। उन हजारों दिवंगत आत्माओं को भी शांति मिली, जो इस स्थान पर भव्य राममंदिर निर्माण के संकल्प और सपने के साकार होने की प्रतीक्षा करते-करते संसार से चले गए।

ऐतिहासिक पल के गवाह बनी ये प्रमुख हस्तियां

रामलला के मंदिर के शिलान्यास समारोह जैसे ऐतिहासिक पल की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, संघ प्रमुख मोहन भागवत, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास समेत तमाम हस्तियां साक्षी बनी। भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी करीब तीन घंटे तक रामनगरी में रहेंगे।

इसके साथ ही मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी संभवत: दुनिया भर में अयोध्या का नाम ऐसे महत्वपूर्ण स्थान के रूप में दर्ज करा चुकी है, जो हिंदुओं के अपने आराध्य के स्थान की वापसी के लिए 492 वर्षों के संघर्ष का संकटपूर्ण इतिहास समेटे होगा। इस दौरान किसी ने पुत्र खोया तो किसी ने पति, किसी ने पत्नी, पुत्री और किसी ने माता, पिता और भाई। कभी सरकार आड़े आई तो कभी कानूनी प्रक्रिया। मुकदमों पर मुकदमे हुए। एक समाप्त हुआ तो दूसरा शुरू हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *