राजनाथ सिंह की चीन को दो टूक- भारत की एक इंच जमीन को दुनिया की कोई ताकत छू भी नहीं सकती

New Delhi: लेह के दौरे पर पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh in Leh) ने भारतीय सेना के जवानों को संबोधित करते हुए चीन को एक सख्त संदेश दिया। रक्षामंत्री ने लेह की लुकुंग चौकी पर जवानों को संबोधित करते हुए स्पष्ट शब्दों में ये कहा कि भारत की एक इंच जमीन को दुनिया की कोई ताकत छू नहीं सकती है।

रक्षामंत्री (Rajnath Singh in Leh) ने अपने संबोधन में कहा कि अगर भारत के स्वाभिमान पर चोट करने की कोशिश हुई तो हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे और इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh in Leh) ने लद्दाख की लुकुंग चौकी पर भारतीय सेना के जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि बातचीत में जो कुछ अब तक की प्रगति है, वो पॉजिटिव है। मामला हल होना चाहिए। लेकिन कहां तक हल होगा, अभी इस संबंध में मैं कोई गारंटी नहीं दे सकता हूं। देखें वीडियो:

‘चोट पहुंचाने की कोशिश की, तो देंगे मुंहतोड़ जवाब’

राजनाथ ने आगे कहा, ‘मैं इतना यकीन मैं जरूर दिलाना चाहता हूं कि भारत की एक इंच जमीन भी दुनिया की कोई ताकत छू नहीं सकती, उस पर कोई कब्जा नहीं कर सकता।’ इससे पहले राजनाथ सिंह ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि हम अशांति नहीं चाहते हम शांति चाहते हैं। हमारा चरित्र रहा है कि हमने किसी भी देश के स्वाभिमान पर चोट मारने की कभी कोशिश नहीं की है।भारत के स्वाभिमान पर यदि चोट पहुंचाने की कोशिश की गई तो हम किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेंगे और मुंहतोड़ जवाब देंगे।

‘हमें भारतीय सेना के ऊपर नाज है’

अपने संबोधन में सेना की तारीफ करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि भारतीय सेना के ऊपर हमें नाज है। मैं जवानों के बीच आकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। हमारे जवानों ने शहादत दी है। इसका गम 130 करोड़ भारतवासियों को भी है। भारत का नेतृत्व सशक्त है। हमें पीएम नरेंद्र मोदी जैसा प्रधानमंत्री मिला है। वो फैसला लेने वाले प्रधानमंत्री हैं।

‘हमने कभी किसी देश की जमीन पर कब्जा नहीं किया’

सारी दुनिया को संदेश देते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि भारत दुनिया का इकलौता देश है जिसने सारे विश्व को शांति का संदेश दिया है। हमने किसी भी देश पर कभी आक्रमण नहीं किया है और न ही किसी देश की ज़मीन पर हमने कब्जा किया है। भारत ने वसुधैव कुटुंबकम का संदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *