ECOSOC: कोरोना, पर्यावरण, विकास.. UN में PM मोदी के संबोधन की बड़ी बातें

New Delhi: UNESC Session 2020: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने संयुक्त राष्ट्र (UN) आर्थिक एवं सामाजिक परिषद (ECOSOC) के सत्र को संबोधित करते हुए भारत के विकास पथ को दुनिया के सामने रखा।

इस दौरान उन्होंने न केवल अपनी सरकार के दौरान किए गए विकास कार्यों का उल्लेख किया बल्कि दुनिया के विकास में भारत के योगदान को भी बताया। जानिए पीएम मोदी (PM Narendra Modi) के भाषण की खास बातें…

कोरोना पर बोले पीएम- हमारा रिकवरी रेट सबसे बेहतर

कोरोना वायरस को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी प्राकृतिक आपदाओं से लड़े हैं। भारत ने इन सभी आपदाओं का मुकाबला तेजी और मजबूती से किया। हमने कोरोना वायरस से लड़ाई को जन आंदोलन बनाया और कोरोना पर भारत का रिकवरी रेट दुनिया में सबसे बेहतर है। हमने जनता को कोरोना के खिलाफ लड़ाई से जोड़ा।

प्लास्टिक बैन और कार्बन उत्सर्जन पर भी बोले पीएम

पीएम मोदी ने भारत के पर्यावरण के क्षेत्र में किए गए काम का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि हमने सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध का अभियान चलाया। हम विकास के रास्ते पर आगे बढ़ते हुए पर्यावरण के बारे में भी सोच रहे हैं। इसके साथ ही पांच साल में हमने 38 मिलियन कार्बन उत्सर्जन कम किया है।

भारत के वैश्विक योगदान का उल्लेख

पीएम मोदी ने भारत के वैश्विक योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि चाहे भूकंप, चक्रवात, इबोला संकट या कोई अन्य प्राकृतिक या मानव निर्मित संकट हो, भारत ने तेजी और एकजुटता के साथ जवाब दिया है। कोरोना के खिलाफ हमारी संयुक्त लड़ाई में हमने 150 से अधिक देशों में चिकित्सा और अन्य सहायता उपलब्ध करवाई है।

पीएम मोदी ने महिला सशक्तिकरण पर दिया जोर

पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान महिला सशक्तिकरण और स्वच्छता कार्यक्रम का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि भारत हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। हम अपनी महिलाओं को सशक्त बनाने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। पिछले 6 साल में हमने डायरेक्ट बिनिफिशियल प्रोग्राम के लिए 40 करोड़ बैंक खाते खोले हैं और जरूरतमंद लोगों के खाते में सीधे पैसे पहुंचाए।

पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में सुधार की अपील की

पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में सुधार को लेकर भी अपील की। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत में ही कहा कि भारत यूएन का फाउंडिंग मेंबर रहा है। आज कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप ने इसके पुनर्जन्म और सुधार के नए अवसर प्रदान किए हैं। आइए हम यह मौका न गंवाएं।

2022 तक सभी के लिए घर का ऐलान

पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान ऐलान किया कि जब भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपने 75साल पूरे करेगा तब हमारा ‘हाउसिंग फॉर ऑल’ कार्यक्रम 2022 तक प्रत्येक भारतीय के सिर पर एक सुरक्षित छत सुनिश्चित करेगा। हमारे 600,000 गांवों में पूर्ण स्वच्छता प्राप्त करके हमने पिछले साल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई।

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के चुनाव में जीत के बाद यह पहला मौका है जब प्रधानमंत्री मोदी संयुक्त राष्ट्र को संबोधित किया। भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रूप में 2021-22 सत्र के लिए निर्वाचित हुआ है। इससे पहले भी पीएम मोदी UN ECOSOC के सत्र को संबोधित कर चुके हैं। इकोसॉक की 70वीं वर्षगांठ पर जनवरी 2016 में पीएम ने इसके सत्र को संबोधित किया था।

आपको बता दें कि आर्थिक एवं सामाजिक परिषद संयुक्त राष्ट्र के 6 प्रमुख अंगों में से एक हैं। साल 1946 में इकोसॉक के पहले अध्यक्ष भारतीय सर रामास्वामी मुरलीधर बने थे।

क्या है संयुक्त राष्ट्र?

संयुक्त राष्ट्र ( United Nations) एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है, जिसके उद्देश्य में उल्लेख है कि यह अंतरराष्ट्रीय कानून को सुविधाजनक बनाने के सहयोग, अन्तर्राष्ट्रीय सुरक्षा, आर्थिक विकास, सामाजिक प्रगति, मानव अधिकार और विश्व शांति के लिए कार्यरत है। संयुक्त राष्ट्र की स्थापना 24 अक्टूबर, 1945 को संयुक्त राष्ट्र अधिकार पत्र पर 50 देशों के हस्ताक्षर होने के साथ हुई। आज विश्व के हर देश एक-दूसरे पर अधिकार जमाने के लिए खड़े रहते हैं।

क्या है ECOSOC ?

आर्थिक और सामाजिक परिषद संयुक्त राष्ट्र (united nations economic and social council) का काफी अहम अंग है। इस मंच के जरिए विकास के तौर-तरीके पर चर्चा करने के साथ-साथ आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरण के क्षेत्र में लगातार विकास पर भी चर्चा की जाती है। यह मंच संयुक्त राष्ट्र के साथ समन्वय बनाता है। साथ ही दुनिया के देशों केसाथ साझेदारी भी निभाता है। वैश्विक मुद्दों पर यहां चर्चा होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *