नहीं रहे गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल, कुछ ऐसा था ‘गुरु’ केशुभाई से PM मोदी का रिश्ता

New Delhi: गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल (Keshubhai Patel) का नि’धन हो गया है। वो 92 साल के थे। बताया जा रहा है कि उनका नि’धन कार्डियक अरेस्ट के कारण हुआ है। वो गुजरात के दो बार मुख्यमंत्री रहे। उनका प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के साथ काफी घनिष्ठ संबंध रहा।

केशुभाई (Keshubhai Patel) जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में शामिल थे। वह दो बार मुख्यमंत्री बने लेकिन राजनीतिक तख्तापलट की वजह से दोनों बार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए। 2001 में उनकी जगह नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने CM पद की शपथ ली। मोदी उन्हें अपना राजनीतिक गुरु भी मानते हैं।

1977 में केशुभाई पटेल (Keshubhai Patel) राजकोट से लोकसभा के लिए चुने गए थे। बाद में उन्होंने इस्तीफा दे दिया और बाबूभाई पटेल की जनता मोर्चा सरकार में 1978 से 1980 तक कृषि मंत्री रहे। पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने प्रधानमंत्री बनने पर कहा भी था कि सूबे की असल कमान केशुभाई के हाथ में ही है। उन्हें बीजेपी का रथ हांकने वाला सारथी करार दिया था।

बात 2019 के लोकसभा चुनाव की करें तो इस दौरान जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात के अडालज में शिक्षण भवन और विद्यार्थी भवन का शिलान्यास करने के लिए मंच पर पहुंचे थे तो वहां गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल पहले से मौजूद थे। इस पर पीएम मोदी सभी से हाथ मिलाते हुए उनके पास आए तो उन्होंने झट से झुककर केशुभाई पटेल के पैर छू लिए थे। इस दौरान सभी की नजरें दोनों की मुलाकात पर टिक गईं थीं।

केशुभाई पटेल की जगह नरेंद्र मोदी बने थे गुजरात के सीएम

साल 2001 में बीजेपी ने केशुभाई पटेल की जगह नरेंद्र मोदी को गुजरात का मुख्यमंत्री बना दिया था क्योंकि भूकंप के बाद केशुभाई सरकार पर प्रशासनिक अक्षमता के आरोप लग रहे थे।

…फिर भी मोदी मानते थे अपना गुरु

गुजरात की सियासत में केशुभाई पटेल के लिए इसे बड़ा झटका माना गया था। इसके चलते उनके और नरेंद्र मोदी के रिश्ते में खटास भी आ गई थी लेकिन फिर भी मोदी उन्हें अपना गुरु ही मानते थे।

केशुभाई ने 2012 में BJP से अलग होकर बनाई थी नई पार्टी

केशुभाई 1980 से 2012 तक बीजेपी का हिस्सा थे। 1995 में उन्हीं के नेतृत्व में गुजरात में बीजेपी की सरकार बनी थी। हालांकि 2012 में बीजेपी से अलग होकर उन्होंने गुजरात परिवर्तन पार्टी बनाई थी। तब उन्होंने मोदी की सार्वजनिक मंच सेआलोचना भी की थी।

केशुभाई पटेल के बेटे के निधन पर मिलने गए PM मोदी

2019 से पहले गुजरात के सीएम विजय रूपाणी के शपथग्रहण समारोह में भी दोनों साथ में दिखे थे। साल 2017 में ही केशुभाई पटेल के बेटे प्रवीण के निधन पर पीएम मोदी उनसे मुलाकात करने उनके आवास गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *