जब लोकसभा में PM मोदी की दमदार एंट्री पर लगे ‘भारत माता की जय’ और ‘जय श्री राम’ के नारे

New Delhi: कोरोना से जुड़े दिशा निर्देशों का पालन करते हुए बुधवार को संसद के मॉनसून सत्र (Monsoon Session) का समापन हुआ। मॉनसून सत्र के अंतिम दिन लोकसभा की कार्यवाही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) मास्क पहनकर शामिल हुए।

जिस दौरान पीएम मोदी (PM Narendra Modi) संसद में पहुंचे उसी समय सदन में भारत माता की जय (Bharat Mata Ki Jai) और जय श्री राम (Jai Shree Ram) के नारे लगने शुरू हो गए। जिसके बाद उन्होंने शालीनता से हाथ जोड़ सभी का अभिवादन स्वीकार किया। सत्र के अंतिम दिन लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने मॉनसून सत्र को ऐतिहासिक करार दिया।

17 वीं लोकसभा के मॉनसून सत्र (Monsoon Session) के आखिरी दिन पीएम मोदी (PM Narendra Modi) भी सदन कार्यवाही में शामिल हुए। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए पीएम मोदी मास्क लगाकर सदन की कार्यवाही में शामिल हुए।

इस दौरान लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला (Lok Sabha Speaker OM Birla) ने बताया कि सदन के इस मॉनसून सत्र (Monsoon Session) में कार्य उत्पादकता के मामले में सदन ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। कोरोना महा’मारी के दौरना लोकसभा में कार्य उत्पादकता में 167 प्रतिशत की रेकॉर्ड बढ़ोत्तरी हुई। वहीं अब सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थिगित कर दी गई है।

‘ऐतिहासिक रहा मॉनसून सत्र’

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker OM Birla) ने कोरोना महा’मारी के बीच मानसूत्र सत्र (Monsoon Session) के आयोजन को कई अर्थों में ‘ऐतिहासिक’ बताते हुए कहा कि ऐसी परिस्थिति में भी सदस्यों के सक्रिय सहयोग और सकारात्मक भागीदारी के कारण निचले सदन ने कार्य उत्पादकता के नये कीर्तिमान स्थापित किये जो 167 प्रतिशत रही।

उन्होंने कहा कि यह अन्य सत्रों से अधिक रही। स्पीकर ने कहा कि कोरोना जैसी गंभीर परिस्थिति में भी सदस्यों के सक्रिय सहयोग और सकारात्मक भागीदारी के कारण ये सत्र अन्य सत्रों की तुलना में अधिक सफल रहा।

23 घंटे ज्यादा चली सदन की कार्यवाही

लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि 14 सितंबर से शुरू हुए मानसून सत्र के दौरान लोकसभा की 10 बैठकें बिना अवकाश के हुईं जिनमें निर्धारित कुल 37 घंटे की तुलना में कुल 60 घंटे की कार्यवाही संपन्न हुई। इस तरह सभा की कार्यवाही निर्धारित समय से 23 घंटे अतिरिक्त चली। उन्होंने कहा कि सत्र में 68 प्रतिशत समय में विधायी कामकाज और शेष 32 प्रतिशत में गैर विधायी कामकाज संपन्न हुआ।

लोकसभा में 25 विधेयक हुए पारित

ओम बिड़ला ने बताया कि इस सत्र में निचले सदन ने आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020, कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तीरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 तथा उपजीविकाजन्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यदशा संहिता 2020, औद्योगिक संबंध संहिता 2020 और सामाजिक सुरक्षा संहिता 2020 से संबंधित विधेयकों समेत कुल 25 विधेयक पारित हुए।

बता दें कि लोकसभा और राज्यसभा का यह मॉनसून सत्र किसानों से जुड़े कृषि बिल को लेकर पूरी तरह से हंगामें से भरपूर रहा। इस दौरान कांग्रेस के आह्वन पर पूरे विपक्ष ने सदन की कार्यवही का बहिष्कार किया। वही सदन बिना विपक्ष के ही कई बिलों को पारित किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *