चीन ने शुरू किया नया प्रॉपेगैंडा, बोला- हमने J-20 से 17 बार राफेल को मा’र गिराया है

New Delhi: भारत के राफेल जेट (Indian Rafale Jet) से चीन कितना ड’रता है इसका खुलासा खुद वहां की सरकारी मीडिया ने किया है। चीन ने हाल में ही एक यु’द्धा’भ्यास कर दावा किया कि उसके कथित स्टील्थ फाइटर J-20 ने राफेल विमान को 17.0 से मात दी है।

डींगे हांकते हुए हुए चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स (Global Times) ने लिखा कि इससे एक बार फिर साबित होता है कि J-20 भारत के राफेल (Indian Rafale Jet) पर भारी पड़ेगा।

राफेल के खिलाफ जीता J-20: ग्लोबल टाइम्स

चीनी सेना के मुखपत्र पीएलए डेली के हवाले से ग्लोबल टाइम्स (Global Times) ने लिखा कि पीएलए की पूर्वी थिएटर कमांड के वांग हाई एयर ग्रुप से जुड़े एक युवा पायलट चेन शिनहाओ ने अपने साथियों के साथ तालमेल बनाते हुए विरो’धियों के 17 फाइ’टर जेट्स को मा’र गिराया। इस दौरान चीनी सेना के किसी भी विमान को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। हालांकि ग्लोबल टाइम्स यह भूल गया कि मॉक ड्रिल और वास्तविक परिस्थितियों में प्रदर्शन करना बिलकुल अलग बात है।

खुद की रिपोर्ट ने चीनी प्रोपगेंडा की खोली पोल

पीएलए डेली ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चेन शिनहाओ ने नए एयरक्राफ्ट J-20 को केवल 100 घंटे ही उड़ाया है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि ऐसा नौसिखिया पायलट क्या दुनिया के सबसे आधुनिक माने जाने वाले राफेल विमान (Indian Rafale Jet) के खिलाफ इतना अच्छा प्रदर्शन कैसे कर सकता है। वहीं पीएलए डेली ने अपने इस रिपोर्ट के कवर पर भारत के सुखोई-30 एमकेआई की तस्वीर लगाई है। ऐसे में ग्लोबल टाइम्स यह कैसे कह सकता है कि उसके J-20 ने भारत के राफेल के खिलाफ यु’द्धाभ्या’स किया।

मॉक ड्रिल से खुश हो रहा चीन

पीएलए एयर फोर्स ने 2019 में वांग हाई एयर ग्रुप में J-20 विमानों को शामिल किया था। यह चीनी वायुसेना का पहला ऐसा एयर ग्रुप है जिसे जे-20 उड़ाने के लिए अधिकृत किया गया था। बड़बोलापन दिखाते हुए ग्लोबल टाइम्स ने यह भी कहा कि मॉक ड्रिल में चीन के J-20 ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। इसलिए यह यु’द्ध के मैदान में भी ऐसा ही प्रदर्शन करेगा।

राफेल की खूबियों के आगे बौना है चीनी J- 20 जेट

भारतीय वायुसेना के पूर्व प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ (रिटायर्ड) के मुताबिक, राफेल से चाइनीज जे- 20 का मुकाबला तो दूर, वह राफेल की खूबियों के सामने इतना बौना है कि दोनों की तुलना करना ही बेमानी है। पूर्व एयर चीफ का कहना है कि राफेल जेट्स (Indian Rafale Jet), चीन के जे- 20 विमानों से बहुत ज्यादा आला दर्जे के हैं।

उन्होंने राफेल (Indian Rafale Jet) की खूबियां गिनाते हुए कहा कि यह इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर टेक्नॉलजी के लिहाज से दुनिया में सर्वोत्तम है, इसमें Meteor मिसा’इल लगे हैं जो रेडार से गाइड होते हैं और जे बियॉन्ड विजुअल रेंज एयर टु एयर मिसाइल (BVRAAM) हैं। भारत के राफेल में हवा से जमीन पर मा’र करने वाले बेहद घा’तक हथि’यार SCALP हैं जो पहाड़ी और ऊंचाई वाले इलाकों में चीन के पास उपलब्ध हर किसी हथि’यार पर भारी पड़ने वाले हैं।

चीन से यु”द्ध में गेमचेंजर होगा भारत का राफेल

उन्होंने कहा कि अगर चीन के साथ यु’द्ध की नौबत आती है तो राफेल बिना संदेह पूरा खेल बदल देगा। उन्होंने कहा, ‘अगर भारतीय वायुसेना दुश्मन के हवाई सुरक्षा को भेदने में कामयाब हुई तो होटन और गोंगर एयर बेस पर चीनी यु’द्ध विमानों का नेस्तनाबूद होना तय है।

उन्होंने कहा कि होटन में चीन के 70 विमान और ल्हासा में एक चीनी सैनिकों द्वारा निर्मित एक सुरंग स्थित गोंगर एयरबेस पर करीब 26 विमान हैं। धनोआ ने कहा कि होटन एयरबेस पर तो चीन के सभी 70 विमान यूं ही खुले में पड़े हैं और उनकी कोई सुरक्षा नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *