बॉर्डर पर मंडरा रहा था PAK सेना का कॉडकॉप्टर, भारतीय सेना ने उड़ाए परखच्चे

New Delhi: भारतीय सेना (Indian Army) ने जम्‍मू और कश्‍मीर में पाकिस्‍तान का एक कॉडकॉप्टर (Pakistani Quadcopter) मा’र गिराया है। शुरुआती जानकारी के मुताबिक, यह पाकिस्‍तानी सेना के स्‍पेशल सर्विस ग्रुप (SSG) का कॉडकॉप्टर है। यह कॉडकॉप्टर एलओसी पर 70 मीटर भारत की तरफ, केरन सेक्टर में गिरा।

सीमा (Indian Pakistan Border) पार से हथि’यारों और गो’ला-बा’रूद को ड्रो’न के जरिए गिराना एक नया तरीका है, जिसके जरिए सीमा पार से आ’तंक’वा’दियों के हैंडलर्स उनके लिए ये सामान भेज रहे हैं। पाकिस्‍तान की ओर से अनमैन्‍ड एरियल वीकल्‍स (UAVs) का इस्‍तेमाल सर्विलांस और आतं’कियों को हथि’यार पहुंचाने के लिए होता रहा है। इसके अलावा ड्रो’न्‍स, कॉडकॉप्‍टर या हेक्साकॉप्‍टर के जरिए हमले का खतरा भी है।

सितंबर में सेना हो गई थी अलर्ट

LOC पर भारतीय सेना पहले से ही कॉडकॉप्‍टर्स (Pakistani Quadcopter) के इस्‍तेमाल को लेकर अलर्ट थी। पीर पांजाल रेंज में ड्रो’न के जरिए आतं’कियों को हथि’यार सप्‍लाई किए जाने की बात सामने आई थी। पिछले महीने जम्‍मू और राजौरी से ड्रोन के जरिए भेजे गए हथियार बरामद किए गए थे। उससे पहले भी कई बार पाकिस्‍तानी ड्रोन्‍स भारतीय इलाके में देखे गए हैं। जून में बीएसएफ ने कठुआ में अंतरराष्‍ट्रीय सीमा के पास आधुनिक राइ’फल और सात ग्रेनेड्स से लदे एक पाकिस्‍तान डो’न को मा’र गिराया था।

22 सितंबर को जम्मू जिले के अखनूर सीमा क्षेत्र पुलिस और सेना ने 2 एके-47 असॉल्ट राइ’फल, 3 एके मैगजीन, 90 राउंड की एके-47 राइ’फल और 1 स्टार पि’स्ट’ल बरामद किए थे। ये हथि’यार और गो’ला-बा’रूद आ’तं’कवा’दियों द्वारा इस्तेमाल करने के लिए सीमा पार से ड्रो’न से गिराए गए थे। उससे पहले 19 सितंबर को राजौरी जिले से सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के तीन संदिग्ध आतं’कियों को गिर’फ्तार किया था। उनके पास जो हथि’यार मिले थे, वे भी ड्रो’न के जरिए भेजे गए थे।

जवानों को दी जा रही है खास ट्रेनिंग

एलओसी और अंदरूनी इलाकों में तैनात जवानों को ड्रो’न हमले नाकाम करने की ट्रेनिंग मिल रही है। एक ट्रेनिंग मॉड्यूल उनके लिए जो पाकिस्तान से सटी एलओसी के पास तैनात होते हैं। इन जवानों को 14 दिनों के लिए ट्रेनिंग मिलती है। दूसरी ट्रेनिंग में अलग-अलग जगहों पर आ’तंक’वाद का सामना करने के लिए तैनात जवानों के लिए होती है जो 28 दिन तक चलती है।

चीन ने पाकिस्‍तान ने खरीदे हैं आधुनिक ड्रोन

पाकिस्‍तान ने चीन से मध्यम-ऊंचाई वाले कै हान्ग-4 (CH-4) ड्रोन खरीदे हैं। सीएच-4 में वेरिएंट के आधार पर 1,200-1,300 किलोग्राम के बीच टेक-ऑफ मास की क्षमता है। यह भारी मात्रा में पेलोड भी लेकर जा सकता है। पाकिस्तान ने भारत में और अशांति पैदा करने के लिए जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर इन यूएवी को तैनात करने की योजना बनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *