27.1 C
New Delhi
Monday, September 26, 2022

मोदी सरकार के 8 साल में पहली बार, दोनों सदनों में एक सदस्य भी नहीं होगा मुस्लिम

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी के केंद्रीय मंत्रिमंडल से बुधवार को इस्तीफे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आठ साल के अब तक के कार्यकाल में यह पहला मौका है, जब मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखने वाला एक भी सदस्य उनकी मंत्रिपरिषद का हिस्सा नहीं है । नकवी फिलहाल राज्यसभा के सदस्य हैं। उनका कार्यकाल बृहस्पतिवार को समाप्त हो रहा है।

नकवी का कार्यकाल समाप्त होने के बाद संसद में भी यही स्थिति होने जा रही है। दोनों सदनों में भाजपा के 395 सदस्यों में एक भी सदस्य मुस्लिम समुदाय का नहीं होगा।

पिछले महीने 15 राज्यों की 57 राज्यसभा सीटों पर चुनाव हुआ था, क्योंकि 21 जून से एक अगस्त के बीच इन सीटों का प्रतिनिधित्व करने वाले सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो रहा था। इनमें नकवी के अलावा भाजपा के सांसद एम जे अकबर और सैयद जफर इस्लाम भी शामिल थे। हालांकि इनमें से किसी को भी पार्टी ने राज्यसभा का उम्मीदवार नहीं बनाया।

विपक्ष की ओर से भाजपा पर अक्सर यह आरोप लगाया जाता रहा है कि वह मुस्लिमों को पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं देती है। हालांकि भाजपा दावा करती है कि उसके सांसद सभी समुदायों के लिए काम करते हैं और वह किसी धर्म विशेष का प्रतिनिधित्व नहीं करते।

वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव जीतने के बाद मोदी जब पहली बार प्रधानमंत्री बने थे तो उनकी मंत्रिपरिषद में मुस्लिम समुदाय के एकमात्र प्रतिनिधि के तौर पर नजमा हेपतुल्लाह को शामिल किया गया था। उन्हें अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया था।

वर्ष 2016 में हेपतुल्लाह को मणिपुर का राज्यपाल बना दिया गया तो उनकी जगह यह जिम्मेदारी अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय में राज्यमंत्री रहे नकवी को दे दी गई। वर्ष 2016 में ही मध्य प्रदेश से राज्यसभा के सदस्य एम जे अकबर को विदेश मंत्रालय में राज्यमंत्री बनाया गया था। हालांकि एक महिला पत्रकार द्वारा लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद उन्हें मंत्रिपरिषद से इस्तीफा देना पड़ा था। मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में वह पहले मंत्री थे जिन्हें इस प्रकार पद छोड़ना पड़ा।

उधर, जहां तक संसद में भाजपा का एक भी सदस्य ना होने की बात है तो यह स्थिति नकवी को मंत्री होने के बावजूद राज्यसभा के लिए फिर से नामित ना किए जाने और अकबर तथा जफर इस्लाम में से किसी को भी दोबारा राज्यसभा ना भेजे जाने से उत्पन्न हुई।

पिछले कुछ दशकों में भी संसद में भाजपा के मुस्लिम सदस्यों की मौजूदगी बेहद कम रही है। नकवी तीन बार राज्यसभा के सदस्य रहे जबकि एक बार वह रामपुर से चुनाव जीतकर लोकसभा भी पहुंचे। हेपतुल्लाह दो बार राज्यसभा की सदस्य बनीं। तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मंत्रिपरिषद के सदस्य रहे शाहनवाज हुसैन दो बार लोकसभा के सदस्य चुने गए। पहली बार उन्होंने किशनगंज से जीत दर्ज की और दूसरी बार वह भागलपुर से चुनाव जीतकर लोकसभा के सदस्य बने। वह फिलहाल, बिहार सरकार में उद्योग मंत्री हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,125FollowersFollow

Latest Articles