राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष आतिफ रशीद ने उपराज्यपाल से की मुलाक़ात

Atif Rashid

अमृत महोत्सव : इतिहास के पन्नो में गुम हो गए जंग ए आज़ादी के शहीदों से अवगत होगी नई पीढी

नई दिल्ली, 19 अगस्त (वेब वार्ता)। अमृत महोत्सव के अवसर पर शहीदों के इतिहास पर खासा जोर दिया जा रहा है। इस बावत राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने भी विशेष तैयारियां की है। इसी के चलते राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष ने दिल्ली के उपराज्यपाल से मुलाक़ात करके जंग ए आज़ादी में मुसलमानों की भूमिका पर एक किताब भेंट की। इस किताब में उन तमाम जंग ए आज़ादी के सिपाहियों के नाम हैं। किताब में कुछ ऐसे आज़ादी के सिपाहियों का भी जिक्र किया गया है, जिन्होंने आजादी की लड़ाई तो लड़ी थी लेकिन उनकी जिंदगी गुमनामी में कट गई।

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष आतिफ रशीद ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाक़ात कर आयोग की योजनाओं और उन पर किए जा रहे कार्यों से अवगत कराते हुए जंग ए आज़ादी के शहीदों पर एक किताब पेश की। श्री आतिफ ने उपराज्यपाल से प्रधानमंत्री के 15 सूत्रीय कार्यक्रम की समीक्षा, सभी जिलों में अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी की नियुक्ति, कौमी सीनियर सेकेंड्री स्कूल को भूमि आवंटन सहित उर्दू स्कूलों में अध्यापकों की नियुक्ति पर चर्चा की। चर्चा के उपरान्त उपराज्यपाल महोदय ने हर तरह के सहयोग का आश्वासन दिया।

गौरतलब है कि देश इस बार जश्न ए आज़ादी पर अमृत महोत्सव मना रहा है। अमृत महोत्सव की शुरुआत प्रधानमंत्री ने मार्च 2021 से गुजरात के साबरमती आश्रम से की। यह समारोह वर्ष 2023 तक चलेगा।