भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस में की घर वापसी

कोलकाता, 11 जून (वेबवार्ता)। भाजपा का दामन छोड़ते हुए शुक्रवार को मुकुल रॉय ने अपने बेटे शुभ्रांशु रॉय के साथ तृणमूल कांग्रेस में घर वापसी कर ली है। पश्चिम बंगाल में भाजपा के लिए इसे एक बड़ा झटका माना जा रहा है। मुकुल रॉय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मौजूदगी में तृणमूल कांग्रेस के मुख्यालय पहुंच पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर ममता ने कहा कि मुकुल हमारे घर के ही सदस्‍य हैं। वह अपने घर वापस आ गए हैं। मैं उनका अभिनंदन करती हूं। इस दौरान ममता बनर्जी ने कहा कि चुनावों के दौरान मुकुल ने हमारे साथ गद्दारी नहीं की। जिन लोगों ने गद्दारी की है उन्‍हें हम वापस पार्टी में नहीं लेंगे।

ममता बोली- मुकुल रॉय ने कभी खिलाफ नहीं बोला

मुकुल रॉय बोले- बीजेपी में कोई नहीं रहेगा

तृणमूल कांग्रेस के मुख्यालय पर आयोजित पत्रकार वार्ता में मुकुल रॉय ने कहा, ‘मुझे टीएमसी में वापस आकर बहुत अच्‍छा लग रहा है। भाजपा से बाहर निकलकर अपने लोगों और पुराने लोगों से मिलकर बहुत संतुष्टि मिल रही है। मैं भाजपा में काम नहीं कर पाया। इसलिए अपने पुराने घर वापस आ गया। रॉय ने कहा कि मैं भाजपा छोड़कर TMC में आया हूं, अभी बंगाल में जो स्थिति है, उस स्थिति में कोई भाजपा में नहीं रहेगा।

मुकुल रॉय को बड़ी जिम्मेदारी देगी टीएमसी

2017 में टीएमसी छोड़ भाजपा में गए थे मुकुल रॉय

मुकुल रॉय सबसे पहले टीएमसी छोड़ने वाले नेताओं में शुमार थे। 2017 में वह टीएमसी छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे और इसके बाद बड़ी संख्या में टीएमसी नेताओं को उन्होंने भाजपा जॉइन कराई थी। मुकुल रॉय की हैसियत टीएमसी की सरकार में नंबर 2 के नेता के रूप में थी। वह यूपीए 2 सरकार में रेल मंत्री भी रह चुके हैं। इसके अलावा नारदा और शारदा घोटाले में भी उनका नाम सामने आ चुका है।