भारतीय इंटेलिजेंस का अलर्ट, 50 से ज्यादा चाइनीज ऐप्स ‘खतरनाक’, कहीं आपके फोन में तो नहीं

New Delhi: भारत की इंटेलिजेंस एजेंसियों की ओर से करीब 52 चाइनीज ऐप्स को रेड फ्लैग किया गया है और खतरनाक (Dangerous China Apps) माना गया है। इन ऐप्स में TikTok, UC Browser, Xender और Shareit भी शामिल हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय इंटेलिजेंस ने चीन से जुड़े ऐसे ऐप्स (Dangerous China Apps) को यूजर्स की सेफ्टी और प्रिवेसी को लेकर चिंताजनक माना है। ऐसे ऐप्स की लिस्ट में कुछ सबसे पॉप्युलर नाम भी शामिल हैं और इनकी मदद से डेटा विदेश के सर्वर्स पर भेजा जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे में सरकार की ओर से चीन के ऐप्स को या तो ब्लॉक किया जाए या फिर यूजर्स को इनका इस्तेमाल बंद करने की सलाह दी जाए। यह बात इंटेलिजेंस इनपुट्स के हवाले से कही गई है कि इस ऐप्स (Dangerous China Apps) की मदद से भारतीयों का डेटा चोरी किया जा रहा था।

ये रिपोर्ट्स भारत और चीन के बीच तनाव के दौरान सामने आई हैं। इंटेलिजेंस एजेंसी की ओर से दी गई यह सलाह नैशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल सेक्रेटेरियट की ओर से कही गई बात से भी जुड़ी है। रिपोर्ट में किसी अनाम गर्वर्मेंट ऑफिशल के हवाले से भी कहा गया है कि देश की सुरक्षा के लिए चाइना से जुड़े ऐप्स खतरा साबित हो सकते हैं।

ढेरों पॉप्युलर ऐप्स लिस्ट में

इंटेलिंजेंस की ओर से जिन ऐप्स को रेड फ्लैग दिखाया गया है, उनमें TikTok, Vault-Hide, Vigo Video, Weibo, WeChat, SHAREit, UC News, UC Browser, BeautyPlus, Helo, LIKE, Kwai, ROMWE, SHEIN, NewsDog, Photo Wonder, APUS Browser, VivaVideo- QU Video Inc, Perfect Corp, CM Browser और Virus Cleaner (Hi Security Lab) शामिल हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन ऐप्स की जांच की जा रही है।

शाओमी के कई ऐप्स शामिल

लिस्ट में शामिल बाकी चाइनीज ऐप्स Mi Community, DU recorder, YouCam Makeup, Mi Store, 360 Security, DU Battery Saver, DU Browser, DU Cleaner, DU Privacy, Clean Master – Cheetah, CacheClear DU apps studio, Baidu Translate, Baidu Map, Wonder Camera, ES File Explorer, QQ International, QQ Launcher, QQ Security Centre, QQ Player, QQ Music, QQ Mail, QQ NewsFeed, WeSync, SelfieCity, Clash of Kings, Mail Master, Mi Video call-Xiaomi और Parallel Space भी हैं। ये सभी ऐप्स अलग-अलग तरह से यूजर्स का डेटा स्टोर करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *