Mann ki Baat: आत्मनिर्भर, PAK, कोरोना… मन की बात में PM मोदी की बड़ी बातें

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात (Mann Ki Baat PM Modi) कार्यक्रम से जनता को संबोधित किया। कार्यक्रम में पीएम मोदी ने करगिल दिवस का जिक्र कर जवानों को याद किया और पाकिस्तान को जमकर सुनाया भी।

मोदी ने आगे कोरोना वायरस, आत्मनिर्भर भारत, असम और बिहार की बाढ़ का भी जिक्र किया। मोदी ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस पर देशवासी कोरोना से आजादी का संकल्प लें। मन की बात में पीएम मोदी (Mann Ki Baat PM Modi) क्या-क्या बातें कहीं पढ़िए

पाकिस्तान पर साधा निशाना

करगिल दिवस (Kargil Vijay Diwas) पर पीएम मोदी ने सबसे पहले पाकिस्तान पर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि दुष्ट का स्वभाव ही होता है सबसे बिना वजह दुशमनी करना, हित करने वाले का भी नुकसान सोचना। मोदी ने कहा कि पाकिस्तान ने पीठ पर छुरा घोंपा था। मोदी बोले, पाकिस्तान ने बड़े-बड़े मंसूबे पालकर भारत की भूमि हथियाने और अपने यहां चल रहे आन्तरिक कलह से ध्यान भटकाने को लेकर दुस्साहस किया था।

कोरोना से आजादी का लें संकल्प: मोदी

मन की बात में पीएम मोदी ने कहा कि 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस पर देशवासी इसबार कोरोना से आजादी, आत्मनिर्भर बनने की कसम खाएं। कोराना पर बात करते हुए मोदी ने कहा आज हमारे देश में कोरोना से रिकवरी रेट बेहतर है। देश में कोरोना का मृत्यु दर भी काफी कम है।

मोदी बोले कि कोरोना से अभी गंभीरता से लड़ना है। मोदी ने कहा कि इम्युनिटी बढ़ाने वाली चीजें, आयुर्वेदिक काढ़ा वगैरह लेते रहें। कोरोना काल में हमें दूसरी बीमारियों से बचकर रहना है। अस्पताल के चक्कर न लगाने पड़ें, इसका पूरा ख्याल रखना होगा

देशवासी असम-बिहार के साथ: पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में बाढ़ का भी जिक्र किया। मोदी बोले कि कोरोना काल में बाढ़ असम और बिहार के लिए नई चुनौती बनकर आई है। मोदी ने कहा कि आपदा से प्रभावित लोगों के साथ पूरा देश खड़ा है।

सूरीनाम का किया जिक्र

मोदी ने बताया कि सात समंदर पार छोटा सा देश सूरीनाम है। भारत के लोग सैंकड़ों सालों पहले वहां गए, अब एक चौथाई से अधिक भारतीय मूल के हैं। भारतवंशी चंद्रिका प्रसाद ही वहां के राष्ट्रपति भी हैं। मोदी ने बताया कि वहां की आम भाषाओं में से एक ‘सरनामी’ भी, ‘भोजपुरी’ की ही एक बोली है।

आत्म निर्भर भारत का जिक्र

आत्म निर्भर भारत का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कई लोग और संस्थाएं इस बार रक्षाबंधन को अलग तरीके से मनाने का अभियान चला रहें हैं। कई लोग इसे Vocal for local से भी जोड़ रहे हैं जो कि सही है।

मोदी ने बिहार के कुछ युवाओं का जिक्र किया। जो पहले सामान्य नौकरी करते थे। फिर वे मोती की खेती करने लगे। वे इससे अब काफी कमाई कर रहे। मोदी ने कहा कि बिहार की मधुबनी पेंटिंग वाले मास्क मशहूर हो रहे हैं। मोदी ने उन बांस की बोतलों, टिफिन बॉक्स का जिक्र किया जिन्हें नॉर्थ ईस्ट के लोग बना रहे हैं।

टॉपर्स से की बात

पीएम मोदी ने बोर्ड परीक्षा में अच्छे नंबर लानेवाली कृतिका नांदल से बात की। वह हरियाणा के पानीपत की रहनेवाली हैं। इसके बाद मोदी ने केरल के विनायक से बात की। उनसे पीएम मोदी ने पूछा कि हाउज इज द जोश। विनायक ने कहा हाई सर। पीएम मोदी ने यूपी के उस्मान सैफी से भी बात की। सैफी ने बताया कि वह अपने रिजल्ट से खुश हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों ने दिशा दिखाई: मोदी

मोदी बोले कि कोरोना काल में ग्रामीण क्षेत्रों ने देश को दिशा दिखाई। पंचायतों ने काफी अच्छे प्रयास किया। जम्मू की सरपंच बलबीर कौर ने 30 बेड का एक क्वारंटाइन सेंटर बनवाया। बलबीर ने खुद पूरी पंचायत में सैनिटाइजेशन का काम किया। जेतूना बेगम ने अपनी पंचायत में कोरोना से जंग के साथ रोजगार के अवसर पैदा किए। फ्री मास्क, फ्री राशन बांटा। फसलों के बीज दिए ताकि खेती में दिक्कत न आए। अनंतनाग में मोहम्मद इकबाल ने सैनिटाइजेशन के लिए खुद ही स्प्रेयर मशीन बना ली। यह मशीन बाहर से 6 लाख की थी जो उन्होंने सिर्फ 50 हजार में।

मन की बात के जरिए पीएम मोदी का यह देश के नाम 67वां संबोधन है। मोदी हर महीने के आखिर रविवार को मन की बात करते हैं।