अर्णब गोस्वामी की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, महिला पुलिसकर्मी से मारपीट मामले में हो सकती है कार्रवाई

New Delhi: सर्वोच्च न्यायालय से रिपब्लिक टीवी (Republic tv) के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) को भले ही बेल मिल गई हो, लेकिन उनकी मुश्किलें कम नहीं हुई हैं। अर्णब गोस्वामी के खिलाफ अब महिला पुलिसकर्मी के साथ कथित तौर पर मारपीट के मामले पर भी कार्रवाई हो सकती है।

बता दें कि 4 नवंबर को 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां को 2018 में आ’त्मह’त्या के लिए मजबूर करने के आरोप में पुलिस की टीम जब गोस्वामी (Arnab Goswami) को गिरफ्तार करने उनके आवास पर पहुंची थी तो उस दौरान उन्होंने एक महिला पुलिसकर्मी की कथित रूप से पिटाई कर दी थी। इस सिलसिले में मध्य मुंबई के एन. एम. जोशी मार्ग थाने में पिछले सप्ताह उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

‘व्यक्तिगत स्वतंत्रता के साथ न्याय भी जरूरी’

नवभारत टाइम्स ऑनलाइन के मुताबिक, अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) के मुद्दे पर राज्य के मंत्री नवाब मलिक (Nawab malik ) ने कहा कि कानून के सामने सब एक समान हैं और किसी व्यक्ति की व्यक्तिगत स्वतंत्रता और किसी पीड़ित को न्याय देने के बीच में अंतर जरूर होना चाहिए। वहीं कांग्रेस पार्टी (congress party) ने अर्नब की जमानत पर कहा कि उन्हें सिर्फ बेल मिली है, मामला अभी खत्म नहीं हुआ है।

कांग्रेस ने भी इशारों में साधा निशाना

महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने कहा कि अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) का मसला अभी भी न्यायालय में विचाराधीन है। भले ही सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी हो लेकिन यह मामला अभी भी खत्म नहीं हुआ है। उन्होंने शायरी वाले अंदाज में कहा कि ‘जेल से गई वह बेल से नहीं आएगी’।

शिवसेना की यह दलील

शिवसेना (shivsena MLA pratap sarnaik) के विधायक प्रताप सरनाईक ने अर्णब गोस्वामी के मामले पर एनबीटी ऑनलाइन से बात करते हुए कहा कि हमने इस मामले में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने का पूरा प्रयास किया है। आरोपी को जेल के पीछे और अदालत तक पहुंचाया है। माननीय सर्वोच्च अदालत ने जो भी फैसला दिया है।

महाराष्ट्र की सरकार उसका सम्मान करते हुए आगे काम करेगी। लेकिन हमें उम्मीद है की अदालत से पीड़ित परिवार को भी न्याय जरूर मिलेगा। वहीं शिवसेना सांसद अरविंद सावंत कहा कि अभी फिलहाल मामला अदालत में विचाराधीन है, इसलिए ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *