New Parliament House: नए संसद भवन पर कांग्रेस का तंज- अंतिम संस्कार में DJ बजाने जैसा

Webvarta Desk: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने संसद के नए भवन (New Parliament House) की नींव रखी तो तरह-तरह की बातें सोशल मीडिया पर तैरने लगीं। इस बीच कांग्रेस पार्टी ने पुराने और नए संसद भवन की डिजाइन की तुलना करते हुए बताया स्वदेशी और विदेशी का मुद्दा उछाल दिया। साथ ही कहा कि नया संसद भवन बनाना अंतिम संस्कार के वक्त डीजे बजाने जैसा है।
जयराम रमेश ने क्या कहा

पार्टी के सीनियर लीडर जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने कहा कि पुराना संसद भवन का आकार मध्य प्रदेश के चौसठ योगिनी मंदिर जैसा है जबकि नई बनने वाली बिल्डिंग अमेरिकी सरकार के रक्षा विभाग की बिल्डिंग पेंटागन जैसा है। कांग्रेस नेता के इस ट्वीट पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आने लगी हैं। कोई नई बिल्डिंग को गैर-जरूरी बता रहा है तो कोई सरकार के फैसले के साथ खड़ा है।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता का ट्वीट

बहरहाल, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने नए संसद भवन को आत्मनिर्भर बताते हुए तंज भी कसा है। ट्वीट किया, ‘अंग्रेजों का बनाया मौजूदा संसद भवन मध्य प्रदेश के मुरैना स्थित चौसठ योगिनी मंदिर जैसा दिखता है, लेकिन नए ‘आत्मनिर्भर’ संसद भवन का प्रारूप वॉशिंगटन डीसी स्थित पेंटागन से मिलता-जुलता है।’ रमेश ने पुराने संसद भवन और नए संसद भवन की डिजाइन के साथ-साथ चौसठ योगिनी मंदिर और पेंटागन की तस्वीरें भी शेयर की हैं।

नया संसद भवन बनाना अंतिम संस्कार के वक्त डीजे बजाने जैसा: कांग्रेस

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने कहा, ‘नई इमारत की आधारशिला रखने का निर्णय हृदयहीन, संवेदनहीन और बेशर्मी से भरा है। खास कर ऐसे समय में जब देश आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है। बीजेपी लोगों को राहत देने के बजाय फालतू जुलूस निकाल रही है।’

उन्होंने कहा, ‘सरकार का ये कदम अंतिम संस्कार के वक्त डीजे बजाने के बराबर है। एक तरफ, काले कृषि कानूनों के माध्यम से भाजपा ने किसानों की आजीविका पर बुलडोजर चला दिया, दूसरी तरफ वह जनता का पैसा भवन निर्माण पर खर्च कर रही है, जिसकी जरूरत नहीं थी, लेकिन वो ऐसा कर रही है अपने अहंकार को संतुष्ट करने के लिए।’ शेरगिल ने दावा किया कि महत्वाकांक्षी सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के हिस्से के रूप में नए संसद भवन की आधारशिला रखने का काम ‘किसानों से रोटी छीनने के बाद केक की दुकान खोलने’ जैसा है।

मूल्यों को रौंदकर बनाई जाएगी नई इमारत : कांग्रेस

वहीं, कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, ‘डियर पीएम, संसद मोर्टार और पत्थर नहीं है; यह लोकतंत्र, संविधान, आर्थिक-राजनीतिक-सामाजिक समानता का प्रतीक है। यह 130 करोड़ भारतीय की आकांक्षा का प्रतीक है।’ उन्होंने पूछा, ‘इन मूल्यों को रौंदकर बनाई गई इमारत क्या दिखाती है?’ कांग्रेस केंद्र सरकार के सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का विरोध कर रही है और इसे रद्द करने की मांग कर रही है।

971 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होगा नया संसद भवन

ध्यान रहे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नए संसद भवन की आधारशिला रखी और इसका भूमि पूजन भी किया। 64,500 वर्ग मीटर में चार मंजिली इमारत 971 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होगी।