india-china

पूर्वी लद्दाख में भारतीय सेना ने बनाई रणनीतिक बढ़त, मुंह देखता रह गया धोखेबाज चीन

New Delhi: भारतीय सेना (Indian Army) ने पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में पैंगोग सो (Pangong Tso Lake Area) इलाके के आसपास चीनी ठिकानों पर नजर रखने के लिहाज से कई महत्वपूर्ण चोटियों पर अपना दबदबा बढ़ा लिया है।

वहीं, क्षेत्र में त’नाव कम करने के लिए दोनों सेनाओं के ब्रिगेड कमांडरों और कमांडिग अधिकारियों (India China Cammanding Officers Meeting) ने अलग-अलग बातचीत की।

सूत्रों ने बताया कि फिंगर-4 (Finger-4 Area) के चीनी कब्जे वाली जगहों पर कड़ी नजर रखने के लिए पैंगोग सो (Pangong Tso Lake Area) के आसपास पर्वतों की चोटियों और सामरिक महत्व वाले स्थानों पर अतिरिक्त बलों को तैनात किया गया है। पर्वत श्रृंखला को फिंगर के तौर पर कहा जाता है। सूत्रों ने बताया कि पैंगोग झील के उत्तरी किनारे पर फिंगर 4 से 8 तक चीन की मौजूदगी है।

अगस्त के अंत के बाद से भारतीय सेना (Indian Army) ने झील के दक्षिणी किनारे (Pangong Tso Lake Area) पर रेजांग ला और राकिन ला में कई महत्वपूर्ण चोटियों पर दबदबा कायम कर लिया है। सूत्रों ने बताया कि दोनों सेनाओं ने चुशुल के सामान्य क्षेत्र में ब्रिगेड कमांडर स्तर के साथ ही कमांडिग अधिकारी के स्तर की अलग-अलग वार्ता की । बातचीत का मकसद तनाव कम करना था।

रेजांग ला के मुखपारी क्षेत्र में भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच सोमवार की शाम ताजा गति’रोध के बाद पूर्वी लद्दाख में तनाव बहुत ज्यादा बढ़ गया है। भारतीय सेना ने मंगलवार को कहा कि चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख में पिछली शाम को पैंगोग झील के दक्षिणी किनारे के पास भारतीय सैनिकों की तैनाती की जगह के नजदीक जाने की कोशिश की और हवा में गो’लि’यां चलाईं। करीब 45 साल के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गो’लि’यां चलीं।

सूत्रों के मुताबिक, सोमवार को चीनी सेना ने दक्षिणी पैंगोंग की भारतीय फॉरवर्ड चौकियों पर कब्जे की कोशिश की थी। इस दौरान पोल स्वार्ड और ऑटोमेटिक रायफल के साथ पहुंचे चीनी सैनिकों ने भारतीय तारबंदी (वायर ऑब्सटिकल) को भी निकालने की कोशिश की थी। पैंगोंग झील के दक्षिण किनारे में जिन जिन हाइट्स पर भारतीय सैनिक तैनात हैं वहां पर अपने इलाके में भारतीय सेना ने वायर ऑब्सटिकल लगा रखी हैं। भारत ने चीनी सैनिकों को सख्त चेता’वनी दी है कि वह इस तारबंदी को पार करने की कोशिश ना करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *