Rafale Fighter jet

खाक हो जाएगा ड्रैगन, राफेल में लगेंगी घातक हैमर मिसाइल, जल्दी डिलिवरी देने को राजी फ्रांस

New Delhi: India to boost Rafale capabilities with HAMMER missiles: चीन के साथ जारी तनाव के बीच संभावित युद्ध के लिए भारत पूरी तरह कमर कस चुका है।

सेना ने भारत आ रहे राफेल युद्धक विमानों (Rafale Combat Aircraft) को मारक क्षमता बढ़ाने के लिए इसे हैमर (HAMMER यानी हाइली अजाइल मॉड्युलर म्यूनिशन एक्सटेंडेड रेंज) मिसाइलों से लैस करने का आदेश (India to boost Rafale capabilities with HAMMER missiles) फ्रांस को देने जा रहा है। हैमर मिसाइल 60 से 70 किमी की रेंज में किसी भी तरह के लक्ष्यों को ध्वस्त कर देती है।

फ्रांस भी शॉर्ट नोटिस पर आपूर्ति को राजी

वायुसेना ने हाल ही में मोदी सरकार से मिले विशेष अधिकार का इस्तेमाल करते हुए राफेल को और ज्यादा घातक बनाने में कर रही है। फ्रांस को इस विमान में हैमर मिसाइल लगाने का आपातकालीन आदेश देने के लिए जरूरी प्रक्रिया पूरी की जा रही है। सरकारी सूत्रों ने बताया, ‘हैमर मिसाइल के लिए ऑर्डर की प्रक्रिया चल रही है।

फ्रेंच अथॉरिटीज ने भी बहुत कम वक्त में राफेल युद्धक विमान के लिए इन मिसाइलों की आपूर्ति पर राजी हो गई हैं।’ उन्होंने कहा कि एयर फोर्स की तुरंत जरूरत के मद्देनजर फ्रेंच अथॉरिटीज दूसरे ग्राहकों के लिए सुरक्षित हैमर मिसाइलें भारत को देने को तैयार हो गई हैं।

हालांकि, भारतीय वायुसेना के प्रवक्ता ने इस बारे में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। ध्यान रहे कि रक्षा मंत्रालय ने तीनो सेनाओं को 300 करोड़ रुपये तक की आपातकालीन खरीद का विशेष अधिकार दे दिया है।

पूर्वी लद्दाख में खास उपयोग

हैमर मध्यम दूरी की हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल (Medium range air to ground missile) है। अभी फ्रांस की वायुसेना और नौसेना इन मिसाइलों का इस्तेमाल कर रही हैं। भारत के पास ये मिसाइलें आ जाने पर पहाड़ी इलाकों में किसी भी प्रकार के बंकर या मजबूत से मजबूत शेल्टरों को ध्वस्त करने की क्षमता आ जाएगी। ये पूर्वी लद्दाख जैसे पहाड़ी इलाकों में खासा उपयोगी साबित होंगी।

राफेल में SCALP मिसाइलें भी

फ्रांस से 5 राफेल 29 जुलाई को भारत पहुंचने वाला है। इन विमानों के पहुंचने से पहले इनमें लगने वाली लंबी दूरी की स्काल्प (SCALP) मिसाइलें भारत पहुंच जाएंगी। फ्रेंच 17 गोल्डन एरोज (17 Golden Arrows) के पायलट्स राफेल उड़ाकर भारत आएंगे। पहले इसकी डिलिवरी मई के आखिर तक ही होनी थी, लेकिन कोविड-19 महामारी के मद्देनजर भारत और फ्रांस ने इसे दो महीने टालने का फैसला किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *