galvan-valley

चीन ने हटाए सैनिक तो गलवान में झड़प वाली जगह से भारतीय सेना भी हटना पड़ा पीछे

New Delhi: India-China Disengagement: भारत और चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच बातचीत के बाद गलवान घाटी में संघर्ष वाली जगह से भारतीय सेना भी 1.5 किमी पीछे हट गए हैं।

अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ ने भारत सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से यह रिपोर्ट दी है। उधर, सैन्य सूत्रों ने भी कहा है कि समझौते के तहत दोनों पक्ष विवादित इलाकों से 1 से 1.5 किमी पीछे हटेंगे (India-China Disengagement) और जब यह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी तो दोनों देशों की सेना आगे की दिशा तय करने के लिए दोबारा बातचीत करेगी। अजीत डोभाल और वांग यी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई बातचीत के बाद चीन ने अपने सैनिक 1.5 किमी पीछे हटाने शुरू कर दिए हैं।

सहमति तो बनी पर भारत की चिंता भी समझिए

भारतीय सैनिक अब तक पेट्रोलिंग पॉइंट 14 तक जाकर गश्त लगा रहे थे, जहां 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ खूनी संघर्ष हुआ था। 30 जून को कमांडर लेवल की मीटिंग में हुए समझौते के मुताबिक अब भारतीय सैनिक अगले 30 दिनों तक वहां नहीं जा सकेंगे।

अधिकारी के मुताबिक, यह चिंता का विषय है क्योंकि चीनी सैनिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पार भारतीय क्षेत्र में आ गए थे। उनका कहना है कि अगर इसका ठोस समाधान नहीं किया गया तो भारत इस इलाके में पेट्रोलिंग का अपना अधिकार हमेशा के लिए खो सकता है।

पेट्रोलिंग पॉइंट 14 तक भारत ने बनाई है सड़क

अधिकारी ने बताया, ‘भारत ने पेट्रोलिंग पॉइंट 14 तक सड़क बना ली है जहां खूनी झड़प हुई थी। यहीं से आर्मी अपनी पेट्रोलिंग शुरू किया करती थी। अब समझौते के मुताबिक, भारत वहां तक पेट्रोलिंग नहीं कर पाएगा। अब आशंका है कि यह व्यवस्था 30 दिन से बढ़कर कहीं स्थाई न हो जाए।’

अधिकारी ने कहा कि 15 जून को हुए संघर्ष की जगह के आसपास 3.5 से 4 किमी इलाके को बफर जोन घोषित कर दिया गया है इसलिए, अब गलवान में दोनों देशों की तरफ से 30 से ज्यादा सैनिक तैनात नहीं रह सकते हैं। दोनों सैनिकों के बीच 3.6 से 4 किमी की दूरी सुनिश्चित की गई है। उसके बाद दोनों ओर से 1-1 किमी की दूरी पर 50-50 सैनिक रह सकते हैं। यानी, कुल 6 किमी के दायरे में एक तरफ 80 से ज्यादा सैनिक नहीं रहेंगे।

भारत-चीन के सैनिकों के बीच होगी 3.5 किमी की दूरी

अधिकारी ने कहा, ’30 जून को कमांडर लेवल की बातचीत में प्रमुख समझौता हुआ कि भारतीय और चीनी सैनिक एक-दूसरे के करीब आंखों में आखें डाले खड़े नहीं होंगे। उनके बीच कम-से-कम 3.5 किमी की दूरी रहेगी।’

उधर, सैन्य सूत्रों ने बताया कि भारत-चीन की सेनाओं ने सोमवार को हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा से अपने-अपने सैनिक हटाने शुरू कर दिए। दोनों जगहों से सैनिकों के हटने की प्रक्रिया कुछ दिनों में पूरी हो जाएगी। चीनी सेना ने कल से ही अपने तंबू भी उखाड़ने शुरू कर दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *