जब आजादी के जश्न में डूबे उज्जैन के महाकाल, मस्तक पर लहराया तिरंगा

New Delhi: भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस (74th Independence Day) के जश्न में हर देशवासी डूबा तो वहीं, देश की आजादी का रंग बाबा महाकाल (Ujjain Mahakal Temple) के मंदिर में भी देखने को मिला।

उज्जैन के महाकाल मंदिर (Ujjain Mahakal Temple) के शिखर को तिरंगे (Baba Mahakal Dressing tricolor) स्वरूप में सजाया गया। साथ ही भस्मारती में बाबा का श्रृंगार भी तिरंगे के रंगों से किया गया। राष्ट्र का ये पर्व भगवान महाकाल के आंगन में सबसे पहले मनाया गया।

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के अवसर पर आज महाकालेश्वर मंदिर (Mahakaleshwar Temple) में बाबा महाकाल (Baba Mahakal) की विशेष भस्मारती (Bhasm Aarti) की गई।

भस्मारती के पहले बाबा को जल से नहलाकर महा पंचामृत अभिषेक किया गया जिसमें दूध ,दही ,घी, शहद व फलों के रस से अभिषेक हुआ। अभिषेक के बाद भांग और चन्दन से भोलेनाथ का आकर्षक श्रृंगार किया गया और भगवान को वस्त्र धारण कराये गए। इसके बाद बाबा को भस्म चढाई गई।

भस्म चढ़ाने के बाद झांझ-मंजीरे, ढोल-नगाड़े व शंखनाद के साथ बाबा की भस्मारती की गई। केसरिया व सफ़ेद चंदन के साथ भांग को हरे रंग के रूप में उपयोग कर बाबा को तिरंगे रंग में सजाया गया।

वहीं, स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर शुक्रवार को उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर परिसर रंग-बिरंगी आकर्षक रोशनी से नहा उठा। शिखर पर तिरंगे जैसी रोशनी की गई। मंदिर के परिसर के अन्य हिस्सों तक को रोशनी से सजाया गया। इससे पूरा परिसर आकर्षक दिखाई दिया।

प्रशासक एसएस रावत के अनुसार मंदिर और परिसर में लेड फिक्सिंग लाइटिंग की गई है। स्मार्ट सिटी कंपनी के माध्यम से मंदिर में इसी तरह की विद्युत सज्जा की जाएगी। इसके लिए टेंडर निकाले गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *