LAC पर चीन ने कोई हरकत की तो चलेगी मिसाइल, IAF ने लद्दाख में तैनात किया एयर डिफेंस सिस्‍टम

New Delhi: पूर्वी लद्दाख में बॉर्डर के पास चीनी सेना ने जैसी घेराबंदी कर रखी है, उसके इरादे जल्‍द वापस जाने के नहीं लगते। लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के उसपार चीन ने अपनी एयरफोर्स (IAF deploys Air Defence Systems) को तैनात कर रखा है।

हाल के दिनों में चीन के सर्विलांस एयरक्राफ्ट LAC के बेहद करीब तक उड़ते देखे गए हैं। पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) एयरफोर्स पर नजर रखने और किसी भी हरकत का फौरन माकूल जवाब देने के लिए भारतीय वायुसेना (IAF) ने अब मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम तैनात (IAF deploys Air Defence Systems) कर दिया है। अब पूरे सेक्‍टर में एडवांस्‍ड क्विक रिएक्‍शन वाला सरफेस-टू-एयर मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम मौजूद है जो PLAAF के किसी भी फाइटर जेट को कुछ सेकेंड्स में तबाह कर सकता है।

LAC पार चीन की हरकतें ठीक नहीं लग रहीं

पिछले दो हफ्तों में चीनी एयरफोर्स ने सुखोई-30 और अपने स्‍ट्रेटीजिक बॉम्‍बर्स को LAC के पीछे तैनात किया है। उन्‍हें LAC के पास 10 किलोमीटर के दायरे में उड़ान भरते देखा गया है। जिसके बाद एयर डिफेंस सिस्‍टम की तैनाती का फैसला हुआ। सरकारी सूत्रों ने एएनआई से कहा, “सेक्‍टर में बढ़ते बिल्‍ड-अप के बीच, इंडियन आर्मी और इंडियन एयरफोर्स, दोनों के एयर डिफेंस सिस्‍टम तैनात कर दिए गए हैं ताकि चीनी एयरफोर्स या PLA चॉपर्स की किसी गलत हरकत से निपटा जा सके।”

भारत हर मिसाइल को नेस्‍तनाबूद करने में सक्षम

आर्मी ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ मिसाइलें भी भेजी हैं जो किसी भी तेज रफ्तार एयरक्राफ्ट या ड्रोन को सेकेंड्स में खाक कर सकती हैं। इसमें कई मॉडिफिकेशंस और अपग्रेड किए गए हैं ताकि इसे पहाड़ी इलाकों में भी उसी एक्‍युरेसी के साथ यूज किया जा सके। भारत को जल्‍द ही रूस से S-400 मिलने वाला है। उसके बाद भारत पूरे इलाके की आसानी से हवाई निगरानी कर सकता है। पूर्वी लद्दाख सेक्‍टर में IAF के फाइटर एयरक्राफ्ट्स पहले से ही काफी सक्रिय हैं।

तनाव वाले पॉइंट्स पर उड़ान भर रहे चीनी विमान

सूत्रों के मुताबिक, चीनी एयरक्राफ्ट्स को भारतीय LAC के बेहद पास उड़ते देखा गया है। यह पैटर्न उन सभी इलाकों में है जहां भारत और चीन के बीच इस वक्‍त तनाव की स्थिति है। चाहे वह सब सेक्‍टर नॉर्थ (दौलत बेग ओल्‍डी सेक्‍टर) हो या गलवान घाटी का पैट्रोलिंग पॉइंट 14, 15, 17 और 17A (हॉट स्प्रिंग्‍स)। इसके अलावा पैंगोंग त्‍सो और फिंगर एरिया के पास भी चीनी सेना के विमान उड़ते नजर आए हैं। भारत ने सर्विलांस में जो कमी थी, उसे दूर कर लिया है और अब कोई इलाका सुरक्षा बलों की नजर से अछूता नहीं है।

मई से ही लद्दाख में तैनात है सुखोई

पिछले महीने की शुरुआत में जब चीनी सेना ने भारतीय इलाकों में घुसपैठ शुरू की, तभी IAF ने Su-30MKI को पूर्वी लद्दाख सेक्‍टर में भेज दिया था। चीनी लगातार भारतीय एयरस्‍पेस के आसपास मंडरा रहे थे। LAC के उसपर चीन ने अपने इलाकों में करीब 10 किलोमीटर दूर कई तरह के कंस्‍ट्रक्‍शन शुरू किए हैं। ये एयरक्राफ्ट उन इलाकों तक रूटीन उड़ानें भरते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *