भारत-चीन सीमा विवाद पर बोले गृह मंत्री अमित शाह- भारतीय सीमाओं के साथ कभी समझौता नहीं करेंगे

New Delhi: मई के पहले हफ्ते से ही लद्दाख बॉर्डर में भारत और चीन (India China Border) के बीच तनाव चल रहा है। भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने डटे हुए हैं। चीन कई बार भारतीय सीमा में दखलंदाजी करने की कोशिश करता है पर भारतीय सेना के जवान उसकी हर कोशिश को नाकाम कर रहे हैं।

उधर, कांग्रेस का आरोप है कि केंद्र सरकार खुलकर इस मुद्दे पर सामने नहीं आ रही है। जबकि सरकार को जनता को स्पष्ट बताना चाहिए कि एलएसी पर क्या हो रहा है। इन सबके बीच गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने सोमवार को स्पष्ट संदेश देते हुए कहा कि वह इस मुद्दे को हल्के में नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह भारतीय सीमाओं के साथ कभी समझौता नहीं करेंगे।

हल्के में नहीं ले सकता कोई भी देश: शाह

एक निजी न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा, ‘LAC पर तनातनी के स्वभाव को कोई सार्वभौम राष्ट्र हल्के में नहीं ले सकता। हमारी डिप्लोमैटिक और सैनिक स्तर पर बातचीत जारी है लेकिन नरेन्द्र मोदी सरकार इस पर कोई समझौता नहीं करेगी और हम इसके लिए अडिग खड़े रहेंगे।’ यह पूछे जाने पर कि क्या तमाम संबंध सुधारने की कोशिशों के बाद भी चीन की इस हरकत से आप नाराज हैं, तो केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि हमें इसकी जरूरत नहीं है।

चीन की नापाक हरकत

हाल में पता चला है कि करीब 100-150 किलोमीटर दूर स्थित बेस में चीन ने 10-12 फाइटर एयरक्राफ्ट तैनात किए हैं। भारतीय सेना इन फाइटर एयरक्राफ्ट्स (J-11 और J-7) के मूवमेंट पर नजर गड़ाए हुए है, जो होतों और गागुंसा बेस में हैं। सूत्रों के अनुसार ये 10-12 एयरक्राफ्ट भारतीय सीमा के नजदीक उड़ान भरते भी दिख रहे हैं। सेना चीनी विमानों की हर गतिविधि पर नजर गड़ाए हुए हैं।

चीनी विमान 10 किलोमीटर वाली सीमा से दूर रहे

बताया जा रहा है कि उनके एयरक्राफ्ट लद्दाख इलाके में सीमा से 30-35 किलोमीटर के करीब उड़ान भरते दिख रहे हैं। हालांकि, अंतराष्ट्रीय नियम हैं कि सीमा से 10 किलोमीटर के अंदर कोई विमान नहीं आ सकता और चीनी विमान उस सीमा से दूर ही उड़ान भर रहे हैं।

मई में भी हुआ था टकराव

मई में जब भारतीय सेना और चीनी सेना के चौपल के बीच टकराव की स्थिति बन रही थी तो भारतीय सेना ने सुखोई-30 एमकेआई को तैयार कर लिया था। सूत्रों के अनुसार पिछले साल भी 6 पाकिस्तानी जेएफ-17 एयरक्राफ्ट का मूवमेंट देखा गया था, जो पीओके के स्कार्डु से उड़ा था और होतों में जाकर उसने शाहीन-8 नाम की एक एक्सरसाइज में हिस्सा लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *