लॉकडाउन में पशु पक्षियों की मदद को तैयार किए फूड पैकेट्स, मेनका गांधी ने रवाना की गाड़ी

Menka-Gandhi

नई दिल्ली, 03 जून (वेबवार्ता)। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लगे लॉकडाउन से परेशान गरीब और जरूरतमंदों को सरकार की ओर से फ्री राशन बांटा जा रहा है। वहीं स्वयंसेवी संस्थाएं और संगठन भी लोगों को इन सभी चीजों को लगातार मुहैया करा रहे हैं। लेकिन अब एक ऐसी स्वयंसेवी संस्था आगे आई है जिसने बेजुबान पशु-पक्षियों के लिए फूड पैकेट्स तैयार किए हैं जिनकी कोरोना काल में किसी ने परवाह नहीं की है।

पशु पक्षियों के लिए तैयार किए गए फूड पैकेट से भरे वाहन को पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोकसभा सांसद मेनका गांधी ने अपने सरकारी आवास से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस प्रयास से लॉक डाउन के कारण दिल्ली के विभिन्न इलाकों में भोजन-पानी की मार झेल रहे बेजुबान पशु-पक्षियों को ‍‍भोजन ‍मिल ‍सकेगा।

मेनका गांधी ने कहा कि कोरोना की महामारी का दंश इंसान के साथ-साथ बेजुबान पशु पक्षी भी झेलने को मजबूर हैं। मेनका गांधी ने कहा कि इस सृष्टि में संतुलन को बनाये रखने के लिए इंसान के साथ-साथ बेजुबान पशु पक्षियों का जीवन बचाना भी जरूरी है। बेजुबान पशु पक्षियों का जीवन बचाने हेतू लॉक डाउन में ‘जीतो’ जैसी जो संस्थायें अग्रणी भूमिका में है, उनका अभिनन्दन करती हूँ।

जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) ईस्ट दिल्ली की ओर से तैयार इन पैकेट में 10 किलो आटा + 10 किलो चावल + 5 किलो दाल को शामिल किया है। इस अवसर पर ऑर्गेनाइजेशन के फाउंडर चेयरमैन पारसमल जैन, चेयरमैन शैलेन्द्र सुराना, चीफ सेक्रेट्री तरुण जैन, वाइस चेयरमैन भारत सुराना व हेम चन्द जैन, अर्जन जैन के अलावा मंगतराम मुंडे सहित कई अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।

ऑर्गेनाइजेशन के चीफ सेक्रेटरी तरुण जैन ने बताया कि पशु पक्षियों के लिए मेनका गाँधी ने जो खाद्य सामग्री अपने निवास से रवाना की है, उसे कच्चा-पक्का दोनों तरह से संस्था के सदस्य व कार्यकर्ताओं द्वारा दिल्ली में जगह-जगह पशु पक्षियों को नियमित रूप से खिलाया जाएगा। इसके साथ-साथ उनके लिए पानी की भी व्यवस्था की जाएगी।