Farmers Protest 1

जब किसानों ने ठुकराया सरकारी चाय का ऑफर, मंत्री से बोले- आओ बॉर्डर पर जलेबियां-लंगर चखेंगे

New Delhi: किसान नए कृषि कानूनों (Farms Law) के खिलाफ लगातार प्रदर्शन (Farmers Protest) कर रहे हैं। इस गतिरोध को समाप्त करने के लिए सरकार और किसान नेताओं के बीच मंगलवार को विज्ञान भवन में बैठक (Farmers Ministers Meeting) की गई। एमएसपी पर प्रजेंटेशन के बाद मंत्रियों ने बैठक में टी ब्रेक लिया।

मंत्रियों ने किसानों से भी चाय के लिए पूछा। तभी एक किसान ने खड़े होकर कहा कि वे (मंत्री) उनके साथ सिंघु बॉर्डर पर जलेबियां और लंगर चखें। यही नहीं, किसानों ने मंत्रियों की ओर से दिए गए चाय के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। इस बैठक (Farmers Ministers Meeting) के बाद किसान नेता बाहर निकल आए।

सरकार ने किसान नेताओं को कमिटी बनाने का प्रस्ताव दिया है, जो मौजूदा कानून की समीक्षा करेगी। अब किसान नेताओं को इस पर फैसला करना है। नए कृषि कानून पर चर्चा के लिए सरकार ने प्रस्ताव रखा है कि किसान नेता अपने-अपने संगठनों से 4-5 लोगों के नाम दें और एक समिति बनाएं जिसमें सरकार के प्रतिनिधि और कृषि विशेषज्ञ शामिल होंगे और वे मिलकर मंथन करेंगे।

बैठक में कौन-कौन रहा शामिल?

इस बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल ने भी हिस्सा लिया। किसानों के करीब 35 प्रतिनिधि इस बैठक में शामिल होने के लिए विज्ञान भवन पहुंचे। इसके पहले गाजीपुर-गाजियाबाद बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे बीकेयू के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने पंजाब के प्रतिनिधिमंडल को 3 बजे बुलाया है।

सिंघु बॉर्डर पर जाने से रोक दिया

शाहीन बाग की ऐक्टिविस्ट बिलकिस दादी को भी प्रदर्शन में शामिल होना था लेकिन दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन स्थल सिंघु बॉर्डर पर जाने से दादी को रोक दिया। किसानों के प्रदर्शन में शामिल होने के लिए सिंघु बॉर्डर (दिल्ली-हरियाणा सीमा) पहुंचीं बिलकिस दादी को पुलिस ने हिरासत में लिया। इससे पहले खबर आई थी कि उन्हें एमसीडी टोल प्लाजा पर पुलिस ने रोका और एक कार से वापस भेज दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *