किसानों ने नहीं खाया सरकार का खाना, बाहर से मंगवाया लंच

Source : Google
वेबवार्ता डेस्क: कृषि से संबंधित तीन नए कानूनों पर चर्चा के लिए सरकार और किसानों के प्रतिनिधियों के बीच नई दिल्‍ली में चौथे दौर की बैठक चल रही है।

बैठक में कृषि मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर (Agriculture Minister Narendra Singh Tomar), वाणिज्‍य मंत्री पीयूष गोयल  (Minister of Commerce and Industry Piyush Goyal) सरकार का पक्ष रख रहे हैं। सरकार ने किसान नेताओं (Farmer Leaders) को चाय और खाने के लिए पूछा था लेकिन किसान नेताओं ने केंद्र सरकार की तरफ से खाने के ऑफर को ठुकरा कर (Farmers Refuse Food) खुद के मंगवाए हुए लंगर (Langar) को खाना ज़्यादा बेहतर समझा।

बैठक में भाग लेने से पहले पत्रकारों से बातचीत में कृषि मंत्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार किसानों (Farmers) से इस मुद्दे पर लगातार बातचीत कर रही है। उन्‍होंने उम्‍मीद ज़ाहिर की कि आज की वार्ता के बाद इस समस्‍या का सकारात्‍मक परिणाम सामने आएगा।

बैठक में 32 किसान संघों के 40 प्रतिनिधि (Delegation of 40 Farmers) भाग ले रहे हैं। सरकार और किसान नेताओं के बीच तीसरे दौर की बातचीत कल बेनतीजा रही। कृषि मंत्री ने कहा है कि सरकार किसानों के कल्‍याण  के लिए प्रतिबद्ध है और कृषि का विकास सरकार की सर्वोच्‍च प्राथिमकता है।

उन्‍होंने किसानों से आंदोलन (Farmers Agitation) का रास्‍ता छोड़ने की भी अपील (Appeal) की। किसानों ने भी बातचीत से पहले कहा है कि अगर सरकार उनकी मांगों को नहीं मानती तो उनका प्रदर्शन (Protest) जारी रहेगा।