Wednesday, March 3, 2021
Home > National Varta > Farmers Protest: किसान और सरकार की बीच आज फिर बातचीत, दोनों पक्ष अपने रुख पर अड़े

Farmers Protest: किसान और सरकार की बीच आज फिर बातचीत, दोनों पक्ष अपने रुख पर अड़े

Webvarta Desk: Govt Farmers Meeting: तीन कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन (Farmers Protest) के बीच केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच आज 10वें दौर की बातचीत होगी। किसान जहां तीनों कानूनों को रद्द लिए जाने की मांग पर अडिग हैं वहीं सरकार भी पीछे हटने के मूड में नहीं है। ऐसे में सरकार और किसानों के बीच आज होने वाली बातचीत में नतीजा निकलने के आसार कम ही बताए जा रहे हैं।

पिछली बैठक (Govt Farmers Meeting) में भी सरकार ने किसानों से तीनों कानूनों (Farm Laws) पर बिंदुवार बात करने को कहा था। उसने फसलों के एमएसपी पर भी बात आगे बढ़ाने के संकेत दिए थे। बैठक से पहले कृषि मंत्रालय में अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक में सरकार की ओर से रखे जाने वाले प्रस्तावों पर विचार-विमर्श किया गया।

दो मांगे मान चुकी है सरकार

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) का कहना है कि वायु प्रदूषण अध्यादेश और प्रस्तावित बिजली कानून (Farm Laws) पर सरकार ने किसानों की मांग मानी थी। किसान नेता अब भी इस बात पर कायम हैं कि जब तक सरकार तीनों कानूनों को रद्द नहीं करेगी, तब तक उनका आंदोलन (Farmers Protest) जारी रहेगा। वह 26 जनवरी को दिल्ली में किसान गणतंत्र परेड निकालने के इरादे पर भी कायम हैं।

मामले को सुलझाने के लिए सरकार के स्तर पर कई दौर का मंथन हो चुका है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के अलावा गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) इस मसले पर कई दौर की बैठक कर चुके हैं। मामले के लंबा खिंचने से सरकार के लिए परेशानी बढ़ती जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट की समिति ने भी किसानों को बुलाया

सुप्रीम कोर्ट की बनाई समिति ने एक सदस्य अशोक घनवट ने कहा कि गुरुवार को किसानों और बाकी संबंधित पक्षों के साथ बैठक की जाएगी। हालांकि, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि संयुक्त किसान मोर्चा के नेता इस बैठक में नहीं जाएंगे। घनवट का कहना था कि समिति मौजूदा विवाद का हल निकालने का प्रयास करेगी।

ट्रैक्टर रैली को लेकर फैसले पर अडिग किसान

गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली को लेकर किसान अपने फैसले पर अडिग हैं। मंगलवार को किसान नेताओं और दिल्ली, उत्तर प्रदेश व हरियाणा के शीर्ष पुलिस अधिकारियों के बीच बैठक हुई। क्रांतिकारी किसान यूनियन के अध्यक्ष दर्शनपाल सिंह ने कहा कि प्रस्तावित रैली में कोई बदलाव नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘हमने अधिकारियों को यकीन दिलाया है कि रैली शांतिपूर्ण होगी। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि वे इसके बारे में सोचेंगे और इसे लेकर अगले एक-दो दिनों फिर बैठक होगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *