Monday, January 25, 2021
Home > National Varta > Farmers March: किसान आंदोलन के समर्थन में दिल्‍ली सरकार, पुलिस को नहीं दी अस्‍थायी जेल बनाने की इजाजत

Farmers March: किसान आंदोलन के समर्थन में दिल्‍ली सरकार, पुलिस को नहीं दी अस्‍थायी जेल बनाने की इजाजत

New Delhi: देश की राजधानी में प्रदर्शनकारी किसानों की एंट्री बंद है। ‘दिल्‍ली चलो’ (Farmers March) मार्च के तहत पंजाब और हरियाणा के हजारों किसान निकल पड़े हैं। हरियाणा में कई जगहों पर किसानों को रोका गया है। न मानने पर पानी की बौछारें और आंसू गैस के गोले भी छोड़े जा रहे हैं।

बॉर्डर पर सघन चेकिंग अभियान से ट्रैफिक व्‍यवस्‍था चरमरा गई है। ऊपर से एनसीआर के शहरों से दिल्‍ली के लिए मेट्रो सेवा बंद रहने से लोगों की परेशानी दोगुनी हो गई है। गुड़गांव, नोएडा, गाजियाबाद से दिल्‍ली आने वालों को खासी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्‍ली और पंजाब की सरकारें खुलकर आंदोलन के समर्थन में आ गई हैं और बीजेपी को घेर रही हैं। टिकरी बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर, पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर झड़पें हुई हैं जिसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और पानी की बौछारें की।

खुलकर किसान आंदोलन के समर्थन में उतरी दिल्‍ली सरकार

दिल्‍ली पुलिस की अर्जी को नामंजूर करते हुए AAP सरकार ने कहा है कि किसानों की मांगें जायज हैं। दिल्‍ली के गृह मंत्री सत्‍येंद्र जैन की तरफ से जारी बयान के अनुसार, ‘अहिंसक तरीके से आंदोलन करते किसानों को जेल में नहीं डाला जा सकता।’ दूसरी तरफ, पंजाब सीएमओ की तरफ से जारी बयान के अनुसार, कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र से गुहार लगाई है कि फौरन किसानों से बातचीत कर हालात शांत करने की कोशिश करें।

कहां-कहां जमा हैं प्रदर्शनकारी किसान?

दिल्‍ली और हरियाणा के बॉर्डर पर कई जगह किसान अड़े हुए हैं। टिकरी बॉर्डर, दिल्‍ली-गुड़गांव बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर पर झड़पें हुई हैं।

टिकरी बॉर्डर पर पुलिस और किसानों के बीच झड़प

टिकरी बॉर्डर: ट्रक हटाने के लिए किसानों ने लगाया ट्रैक्‍टर

ग्रीन लाइन पर कई मेट्रो स्‍टेशंस बंद

DMRC के मुताबिक, ग्रीन लाइन पर ब्रिगेडियर होशियार सिंह, बहादुरगढ़ सिटी, पंडित श्रीराम शर्मा, टीकरी बॉर्डर, टीकरी कलां और घेवरा मेट्रो स्‍टेशंस पर एंट्री और एग्जिट गेट्स बंद कर दिए गए हैं।

ट्रैफिक पुलिस का क्‍या है अपडेट?

दिल्‍ली ट्रैफिक पुलिस ने अलर्ट जारी कर लोगों से मुकरबा चौक को अवॉयड करने की अपील की है। सिंघू बॉर्डर की तरफ गाड़‍ियों को नहीं जाने दिया जा रहा है। पुलिस ने इंटरस्‍टेट गाड़‍ियों को वेस्‍टर्न/ईस्‍टर्न पेरिफेरल एक्‍सप्रेसवे से जाने की सलाह दी है। बॉर्डर वाले एरियाज में भारी पुलिस फोर्स तैनात है।

किसानों की क्‍या हैं मांगें?
  • किसान विरोधी तीन अध्यादेश वापस लिए जाएं।
  • स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो।
  • किसानों का कर्ज माफ किया जाए।
  • किसानों के बिजली बिल माफ किए जाएं।
  • किसानों के बच्चों की फीस माफ की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *