khalsa-college-evening-karol-bagh-delhi-colleges

श्री गुरु नानक देव खालसा कॉलेज में शुरू हुआ ई-फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम

नई दिल्ली। कॉविड-19 के कारण हुए लॉकडाउन में देश के कई शिक्षण संस्थान ऑनलाइन शिक्षा दे रहे हैं। ऑनलाइन शिक्षा का यह कार्यक्रम छात्रों तक सीमित नहीं है, बल्कि शिक्षक भी ऑनलाइन प्रशिक्षण का लाभ उठा रहे हैं।

इसी क्रम में दिल्ली विश्वविद्यालय के श्री गुरु नानक देव खालसा कॉलेज द्वारा ‘द भोपाल स्कूल ऑफ सोशल साइंस, भोपाल’ और ‘आणंद इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल वर्क, आणंद’ के सहयोग से एक सप्ताह के ई-फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया है।

‘क्वेस्ट अलाइंस’ नामक संस्था इस प्रोग्राम की नॉलेज पार्टनर है। 18 मई से आरंभ हुआ यह आयोजन 23 मई तक चलेगा। प्रोग्राम के लिए देशभर के 125 से अधिक शिक्षकों ने रजिस्ट्रेशन कराया है, जिन्हें ‘गूगल मीट’ एप के जरिए ‘ब्लेंडेड लर्निंग’ विषय पर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

प्रोग्राम के पहले दिन ‘क्वेस्ट अलाइंस’ की प्रशिक्षक सुश्री अंकिता ध्यानी ने शिक्षकों को व्याख्यान दिया। अपने व्याख्यान में अंकिता ध्यान ने बताया कि ब्लेंडेड लर्निंग में छात्रों तथा प्रशिक्षुओँ को पारंपरिक फेस-टू-फेस टीचिंग के साथ ऑनलाइन और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के जरिए सिखाया जाता है। उन्होंने ब्लेंडेड लर्निंग के लाभ समझाते हुए इसके विभिन्न तरीकों पर चर्चा की।

पहले दिन के प्रशिक्षण के पश्चात आणंद इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल वर्क, आणंद के प्रिंसिपल डॉ. निनाद झाला ने अंकिता ध्यानी के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम के आयोजन में श्री गुरु नानक देव खालसा कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. गुरमोहिंदर सिंह और इंटरनल क्वालिटी एश्योरेंस सेल के कोऑर्डिनेटर डॉ. दीपक शर्मा का प्रमुख योगदान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *