Monday, January 25, 2021
Home > National Varta > Dev Deepawali 2020: लाखों दीयों से जगमगाएं बनारस के घाट, जानें काशी में ही क्यों मनाई जाती है देव दिवाली

Dev Deepawali 2020: लाखों दीयों से जगमगाएं बनारस के घाट, जानें काशी में ही क्यों मनाई जाती है देव दिवाली

New Delhi: कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima) यानी आज के दिन का सनातन धर्म में विशेष महत्व है। इस दिन देवता स्वर्ग लोक से उतरकर दीपदान करने पृथ्वी पर आते हैं, इसलिए इस दिन को देव दीपावली (Dev Deepawali) के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व दिवाली के 15 दिन बाद कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। धर्म नगर काशी में इस दिन गंगा स्नान, पूजन, हवन और दीपदान का कार्यक्रम किया जाता है।

पूरी काशी को रौशनी से सजाया जाता है और घाटों को दीप जलाकर जगमगाया जाता है। इस सुंदर नजारे को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग काशी आते हैं और इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी आ रहे हैं। लेकिन आखिर काशी में ही क्यों मनाया जाता है देव दीपावली (Dev Deepawali) का त्योहार आइए जानते हैं….

देव दीपावली की पहली मान्यता

काशी में देव दीपावली (Dev Deepawali) मनाने के पीछे एक पौराणिक कथा है। कथा के अनुसार, भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र कार्तिकेय ने तारकासुर का वध करके देवताओं को स्वर्ग वापस लौटाया था। तारकासुर के वध के बाद उसके तीनों पुत्रों ने देवताओं से बदला लेने का प्रण किया। उन्होंने ब्रह्माजी की तपस्या की और सभी ने एक-एक वरदान मांगा।

वरदान में उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि जब ये तीनों नगर अभिजित नक्षत्र में एक साथ आ जाएं तब असंभव रथ, असंभव बाण से बिना क्रोध किए हुए कोई व्यक्ति ही उनका वध कर पाए। इस वरदान को पाए त्रिपुरासुर अमर समझकर आतंक मचाने लगे और अत्याचार करने लगे और उन्होंने देवताओं को भी स्वर्ग से वापस निकाल दिया। परेशान देवता भगवान शिव की शरण में पहुंचे। भगवान शिव ने काशी में पहुंचकर सूर्य और चंद्र का रथ बनाकर अभिजित नक्षत्र में उनका वध कर दिया। इस खुशी में देवता काशी में पहुंचकर दीपदान किया और देव दीपावली का उत्सव मनया।

देव दीपावली की दूसरी मान्यता

देव दीपावली को लेकर दूसरी मान्यता है कि देव उठनी एकादशी पर भगवान विष्णु चतुर्मास की निद्रा से जागते हैं और चतुर्दशी को भगवान शिव। इस खुशी में देवी-देवता काशी में आकर घाटों पर दीप जलाते हैं और खुशियां मनाते हैं। इस उपलक्ष्य में काशी में विशेष आरती का आयोजन किया जाता है।

देव दीपावली की तीसरी मान्यता

तीसरी मान्यता है कि काशी का यह उत्सव करीब तीन दशकर पहले कुछ उत्साही लोगों ने शुरू किया था। नारायणी नाम के एक सामाजिक कार्यकर्ता ने युवाओं की टोली बनाकर काशी के घाटों पर कार्तिक पूर्णिमा के दिन दीपक जलाए थे, तभी से इस कार्यक्रम की शुरुआत हुई। धीरे-धीरे करके कई लोग इस दिन घाटों पर दीपक जलाने लगे और इसकी लोकप्रियता बढ़ने लगी।

देव दिवाली का पर होंगे यह कार्यक्रम

देव दीपावली के मौके पर इस बार 84 घाटों को दीपक और रौशनी से सजाया जाएगा। इसके साथ ही गंगा के पार भी 15 लाख से अधिक दीपक एकसाथ जलाए जाएंगे और ऐतिहासिक भवनों, गंगा पार तथा कुंड तालाबों पर दीपदान किए जाएंगे। बनारस में देव दिवाली का मुख्य आयोजन राजघाट पर होगा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खास मेहमान होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *