Big Breaking: लाल किले उपद्रव के राज खोलेगा दीप सिद्धू! कोर्ट ने 7 दिनों की पुलिस रिमांड पर भेजा

Webvarta Desk: Deep Sidhu 7 Days Police Remand: 26 जनवरी (Republic Day 2021) को लाल किले पर हुए उपद्रव (Red Fort Violence) के मुख्‍य आरोपी दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) ने 7 दिनों की पुलिस रिमांड दे दी है।

दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की स्‍पेशल सेल ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। वह किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले के प्राचीर में झंडा फहराने का आरोपी है। घटना के बाद से ही दीप सिद्धू फरार चल रहा था। दिल्ली पुलिस ने अदालत से 10 दिन की पुलिस रिमांड मांगी है। दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में फिलहाल अभी सुनवाई चल रही है।

सिद्धू पर दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) ने एक लाख रुपये का इनाम भी रखा था। फरार होने के बावजूद सिद्धू फेसबुक के जरिए लगातार वीडियो मेसेज जारी कर रहा था। दिल्‍ली पुलिस ने पिछले दिनों दावा किया था कि वह अपनी एक करीबी मित्र के जरिए सोशल मीडिया पर वीडियो डाल रहा था। पंजाबी फिल्मों के एक्टर दीप सिद्धू को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस की टीमें पंजाब में कई जगह दबिश दे रही थीं। वह अपने फेसबुक पर वीडियोज अपलोड कर रहा था जिसमें पंजाबी में बात करते हुए खुद को निर्दोष बताता था।

अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि केंद्र के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में गणतंत्र दिवस पर किसानों की ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान लाल किले में हुई हिं’सा की घटना में वांछित अभिनेता-कार्यकर्ता दीप सिद्धू को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उपायुक्त (विशेष प्रकोष्ठ) संजीव कुमार यादव ने कहा कि दिल्ली पुलिस की विशेष सेल ने यह गिरफ्तारी की। सिद्धू को सोमवार रात 10 बजकर 40 मिनट पर करनाल बाइपास से गिरफ्तार किया गया।

यह भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा लाल किला कांड का ‘गुनहगार’ दीप सिद्धू, गिन-गिन कर लिया जाएगा हिसाब

दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) के सूत्रों बताया है कि सिद्धू (Deep Sidhu) की महिला मित्र कैलिफोर्निया में रहती है। दीप सिद्धू वीडियोज बनाकर उस महिला को भेजता था और वह सिद्धू के फेसबुक अकाउंट से उन्‍हें अपलोड करती थी।

खुद को निर्दोष बता रहा था दीप सिद्धू

पंजाबी फिल्मों के एक्टर दीप सिद्धू (Deep Sidhu) को पकड़ने के लिए दिल्ली पुलिस की टीमें पंजाब में कई जगह दबिश दे रही थीं। वह अपने फेसबुक पर वीडियोज अपलोड कर रहा था जिसमें पंजाबी में बात करते हुए खुद को निर्दोष बताता था।

एक वीडियो में उसने कहा था कि “अपनी पूरी जिंदगी पीछे छोड़ आने के बावजूद मैं पंजाबियों का उनके विरोध में साथ देने के लिए आया। किसी ने कुछ भी नहीं देखा, लेकिन मुझे गद्दार बना दिया गया।” पंजाब के मुक्तसर जिले में 1984 में जन्मे सिद्धू तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन से जुड़े हैं। उनकी पहली पंजाबी फिल्म ‘रमता जोगी’ 2015 में रिलीज हुई थी। 2018 में उनकी दूसरी फिल्म ‘जोरा दास नंबरिया’ हिट रही थी।

हिंसा में शामिल लोगों को ढूंढ रही पुलिस

पिछले हफ्ते पुलिस ने दीप सिद्धू, जुगराज सिंह, गुरजोत सिंह और गुरजंत सिंह के बारे में सूचना देने वालों को एक लाख रुपये का नकद इनाम देने की घोषणा की थी। पुलिस ने जजबीर सिंह, बूटा सिंह, सुखदेव सिंह और इकबाल सिंह के बारे में सूचना देने वालों के लिए 50 हजार रुपये का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

पुलिस ने सुखदेव सिंह को दो दिन पहले चंडीगढ़ से गिरफ्तार किया था। उसकी गिरफ्तारी के बाद, गणतंत्र दिवस की हिंसा में गिरफ्तारी की कुल संख्या अब 127 तक पहुंच गई है। इससे पहले दिल्ली हिंसा के सिलसिले में पुलिस ने हरप्रीत सिंह (32), हरजीत सिंह (48) और धर्मेद्र सिंह (55) के रूप में पहचाने गए तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। सीसीटीवी फुटेज और मोबाइल रिकॉर्डिग के आधार पर पुलिस अब हिंसा में शामिल अन्य आरोपियों का पता लगा रही है।