कांग्रेस के वो दिग्गज नेता.. जिन्होंने सचिन पायलट के मुद्दे पर पार्टी को दी नसीहत

New Delhi: Congress Leaders Stands with Sachin Pilot: राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने सचिन पायलट (Sachin Pilot) को निपटा दिया है। विधायक दल की बैठक के बाद सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री की पद से बर्खास्त कर दिया गया है। साथ ही उन्हें प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद से भी हटा दिया।

इन सबके बावजूद सचिन पायलट झुकने को तैयार नहीं हैं। वह अपने समर्थक विधायकों के साथ राजस्थान से बाहर हैं। पायलट समर्थकों का कहना है कि गहलोत की सरकार अल्पमत में है। लेकिन सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि सरकार पर कोई खतरा नहीं है। इस घड़ी में भी कांग्रेस के अंदर से पायलट के समर्थन में कुछ आवाज उठी (Congress Leaders Stands with Sachin Pilot) है।

मेहनत किसने की और सीएम किसे बना दिया

सचिन पायलट के बागी रूख का समर्थन कांग्रेस नेता संजय झा ने भी किया था। उन्होंने सोमवार को ट्वीट कर कुछ आंकड़े प्रस्तुत किए थे। साथ ही कहा था कि मेहनत चुनाव के दौरान किसने की और सीएम किसे बना दिया। संजय झा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रहे हैं। पिछले दिनों उन्हें पार्टी के खिलाफ लेख लिखने की वजह से हटा दिया गया था।

सभी चले जाएंगे तो बचेगा कौन

वहीं, कांग्रेस वरिष्ठ नेता संजय निरूपम ने भी सचिन पायलट के पक्ष में अपनी बात रखी थी। उन्होंने कहा था कि बेहतर होगा कि पार्टी सचिन पायलट को समझाए और रोके। शायद पार्टी में कुछ लोग यह सोच रहे हैं कि उसे जाना है तो जाए, हम नहीं रोकेंगे। यह सोच आज के संदर्भ में गलत है। माना कि किसी एक के जाने से पार्टी खत्म नहीं होती। लेकिन एक-एक कर सभी चले गए तो पार्टी में बचेगा कौन?

सिब्बल ने भी दी थी सलाह

राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच खटपट शुरू होते ही पार्टी को वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कुछ नसीहत दी थी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि अपनी पार्टी के लिए चिंतित हूं, क्या घोड़ों के अस्पतबल के निकलने के बाद ही हम जागेंगे। इस ट्वीट में उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया था। लेकिन इशारा राजस्थान की तरफ ही था।

शशि थरूर भी चिंतित

राजस्थान में चल रहे नाटक को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर भी चिंतित हैं। उन्होंने कहा था कि मैं पूरे विश्वास के साथ कहता हूं कि हमारे देश को एक उदारवादी पार्टी की जरूरत है, जिसका नेतृत्व सभी को साथ लेकर चलने के लिए प्रतिबद्ध हो, और जो भारत के बहुलवाद का सम्मान करे। गणतांत्रिक मूल्यों पर विश्वास रखने वाले सभी लोग मिल कर कांग्रेस को मजबूत करें, उसे नीचा नहीं दिखाएं।

जितिन प्रसाद बोले, मेरे दोस्त हैं

उपमुख्यमंत्री के पद से हटा दिया

विधायक दल की बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री की पद से गहलोत सरकार ने हटा दिया है। इसके साथ ही उन्हें अध्यक्ष पद से भी बर्खास्त कर दिया गया है। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पिछले छह महीने से षड्यंत्र चल रहा था। हमारे कुछ साथी गुमराह होकर दिल्ली चले गए। ये बीजेपी को खुला खेल था।