सुब्रमण्यन स्वामी का BJP पर तंज! बोले- 89 वर्षीय श्रीधरन CM फेस, तो आडवाणी-जोशी भी लड़ें चुनाव

Webvarta Desk: भाजपा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी (BJP MP Subramanian Swamy) ने केरल में मुख्यमंत्री पद के लिए मेट्रोमैन श्रीधरन को मुख्यमंत्री पद (Metroman Sreedharan Nominee For Cm In Kerala) का उम्मीदवार घोषित किए जाने को लेकर पार्टी के निर्णय पर सवाल उठाया है।

स्वामी (BJP MP Subramanian Swamy) ने ट्वीट कर कहा कि केरल में सीएम के लिए भाजपा ने 89 साल के श्रीधरन (Metroman Sreedharan Nominee For Cm In Kerala) को भाजपा का उम्मीदवार घोषित किया है। दूसरे शब्दों में, 75+ नेताओं के लिए मार्गदर्शन मंडल के रूप में तैयार किया गया वनवास, एक सुविधाजनक कदम था ? मेरा सुझाव है कि आडवाणी, एमएम जोशी और शांता कुमार को 2024 में चुनाव लड़ना चाहिए।

राज्यपाल बनने को नहीं थे तैयार

पार्टी में शामिल होने के बाद मेट्रो मैन श्रीधरन (88) ने साफ किया था कि राज्यपाल पद संभालने में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह संवैधानिक पद है और कोई शक्ति नहीं है और वह ऐसे पद पर रहकर राज्य के लिए कोई सकारात्मक योगदान नहीं दे पाएंगे।

GDP के आंकड़ों पर उठाए थे सवाल

भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने 1 मार्च को दिसंबर माह में आए जीडीपी के आंकड़ों पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि कुछ ऐसे भी इंडेक्स हैं, जिनका सहारा लिया जाए तो जीडीपी -10 से -15 फीसदी तक दिख सकती है। दरअसल, दिसंबर में खत्म तिमाही में जीडीपी के जो आंकड़े आए हैं, उनके अनुसार जीडीपी में 0.4 फीसदी की बढ़त देखी गई है।

पेट्रोल की कीमतों पर लेवी हटाने की मांग की थी

राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने पेट्रोल, डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर अपनी ही सरकार को निशाने पर लिया था। उन्होंने 19 फरवरी को ट्वीट कर कहा कि इस मुद्दे पर जनता की राय एक है कि कीमतों में बढ़ोतरी शोषण करने वाला है। सरकार को पेट्रोल, डीजल से लेवी हटाना चाहिए।

अर्थव्यवस्था, चीन को लेकर उठाए थे सवाल

स्वामी ने इससे पहले देश की अर्थव्यवस्था और चीन की स्थिति को लेकर मोदी सरकार पर सवाल उठाए थे। इस साल के शुरू में ही भाजपा सांसद ने कहा था कि कोरोना वैक्सीन के उत्साह में हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि देश की अर्थव्यवस्था गिरती जा रही है। साथ ही इस बात का भी हमें ध्यान होना चाहिए कि लद्दाख में 4000 स्क्वायर किलोमीटर के क्षेत्र में चीन हम पर हावी है।