33.1 C
New Delhi
Saturday, October 1, 2022

BB Lal: बीबी लाल… जो बाबरी मस्जिद के नीचे से खोद लाए थे राम मंदिर के सबूत

वेबवार्ता: 101 साल की उम्र में प्रो. बीबी लाल (BB Lal) का निधन हो गया। देश के दूसरे नागरिक सम्मान से सम्मानित प्रो. लाल अपनी पुरातात्विक खोजों के लिए काफी मशहूर थे। जीवन के आखिरी काल में भी वे रिसर्च को लेकर खासे उत्साहित दिखते थे। बीबी लाल का पूरा नाम ब्रजबासी लाल (Brajwasi Lal) था। उनका जन्म 2 मई 1921 को उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के बैडोरा गांव में हुआ था।

एएसआई विभाग के प्रो. लाल (BB Lal) को उनके शोधों के आधार पर वर्ष 2000 में पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया था। प्रो. लाल ने यूपी के हस्तिनापुर, ओडिशा के शिशुपालगढ़, दिल्ली के पुराण किला, राजस्थान के कालीबंगन सहित ऐतिहासिक स्थलों की खुदाई का नेतृत्व किया। इतिहास के साक्ष्य दुनिया के सामने रखे। इस सबमें महत्वपूर्ण खोज थी बाबरी मस्जिद के नीचे से राम मंदिर (Ram Mandir) की खोज।

प्रो. बीबी लाल (BB Lal) की चर्चा सबसे अधिक राम मंदिर के सबूतों को उजागर किए जाने को लेकर होती रही है। उन्होंने बाबरी मस्जिद की नींव राम मंदिर पर खड़ा किए जाने की बात कही थी। अपने इस रिसर्च से वे इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गए। दरअसल, राम मंदिर का मामला सैकड़ों साल पुराना था। मुगल काल में राम मंदिर तोड़कर मस्जिद बनवाए जाने की बात कही गई।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के प्रो. एके नारायण ने 60 के दशक में पहली बार अयोध्या के आर्कियोलॉजिकल सर्वे का काम शुरू कराया गया। यह प्रोजेक्ट आगे नहीं बढ़ पाया। इसके बाद खुदाई का काम बीबी लाल ने अपने हाथ में लिया। यहां से प्राचीन वस्तुएं मिलने पर इसकी जानकारी उन्होंने बीएचयू प्रशासन को दी। इन्हीं पुरातात्विक साक्ष्य के आधार पर सुप्रीम कोर्ट में साबित हुआ कि अयोध्या में राम मंदिर था।

संरचना के सिद्धांत के साथ रखा था तर्क

प्रो. बीबी लाल ने बाबरी मस्जिद की खुदाई के बाद संरचना के सिद्धांत के साथ अपने तर्क पेश किए थे। उन्होंने कहा था कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद के नीचे मंदिर जैसी संरचना थी। इस सिद्धांत ने राम मंदिर आंदोलन के दौरान काफी सुर्खियां बटोरी थी। उनका रिसर्च पेपर ‘राम, उनकी ऐतिहासिकता, मंदिर और सेतु : साहित्य, पुरातत्व और अन्य विज्ञान के साक्ष्य’ ने भी काफी सुर्खियां बटोरी थी।

भगवान राम के प्रति उनका लगाव ही था कि उन्होंने रामायण से जुड़े स्थलों का उत्खनन कराया और कई ऐतिहासिक दस्तावेज दुनिया के सामने रखे। ‘सरस्वती प्रवाह पर : भारतीय संस्कृति की निरंतरता’ जैसे शोध ने आर्कियोलॉजी के शोधार्थियों को भविष्य के शोध की राह दिखाई। अपने करियर के दौरान उन्होंने 50 से अधिक किताबें लिखी। 150 से अधिक शोध पेपर का प्रकाशन कराया।

प्रो. लाल ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से संस्कृत विषय से मास्टर डिग्री तक की पढ़ाई की। इसके बाद वे पुरातत्व की तरफ मुड़े। तक्षशिला से उन्होंने अपने शोध की शुरुआत की। हड़प्पा जैसे स्थलों पर होने वाले उत्खनन टीम का हिस्सा रहे। ब्रिटिश पुरातत्वविद मोर्टिमर व्हीलर के नेतृत्व में उन्होंने प्रशिक्षण लिया।

रामायण स्थलों पर भी किया शोध

प्रो. बीबी लाल ने रामायण से जुड़े स्थलों पर भी शोध शुरू किया। वर्ष 1975 में उन्होंने एएसआई, जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर और यूपी सरकार के पुरातत्व विभाग की ओर से शुरू की गई ‘रामायण स्थलों के पुरातत्व’ परियोजना पर काम शुरू किया। परियोजना के तहत उन्होंने अयोध्या, भारद्वाज आश्रम, नंदीग्राम, चित्रकूट और श्रृंगवेरापुरा जैसे रामायण से संबंधित पांच स्थलों की खुदाई कराई थी। इस दौरान उन्होंने अहम तथ्य दुनिया के सामने रखे थे।

प्रो. लाल ने रामायण में संदर्भ वाले कुछ स्थलों के सर्वे के लिए 1975 और 1976 के बीच प्रोजेक्ट का नेतृत्व किया था। टीम में 9 सदस्य थे, जिनमें से 5 पुरातत्वविद प्रो. लाल, डॉ केपी नौटियाल, एसके श्रीवास्तव, आरके चतुर्वेदी और केएम अस्थाना जीवाजी विश्वविद्यालय से थे। इस टीम में महदावा एन कटी, एलएम वहल और एमएस मणि नाम के 3 सदस्य एएसआई से थे। यूपी पुरातत्व विभाग से हेम राज टीम से जुड़े थे। प्रो. लाल के अनुसार, रामायण से जुड़े पांच स्थलों अयोध्या, नंदीग्राम, श्रृंगवेरापुर, भारद्वाज आश्रम और चित्रकूट में खुदाई की गई थी।

प्रो. लाल ने बाबरी ढांचे के ठीक दक्षिण में क्षेत्र की खुदाई करते समय स्तंभ मिलने के प्रमाण दिए थे। उन्होंने बाबरी ढांचे के पास स्तंभ आधारों की खोज के बारे में सात पन्नों की प्रारंभिक रिपोर्ट लिखी थी। हालांकि, खोज के बाद क्षेत्र से सभी तकनीकी सुविधाओं को वापस ले लिया गया और परियोजना को रोक दिया गया था। प्रो. लाल के बार-बार अनुरोध के बावजूद इसे फिर से शुरू नहीं किया गया और 10-12 साल तक बंद रहा। अंतिम रिपोर्ट कभी प्रस्तुत नहीं की गई थी।

हालांकि, उनकी प्रारंभिक रिपोर्ट भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद की ओर से 1989 में रामायण और महाभारत की ऐतिहासिकता पर अपने खंड में प्रकाशित की गई थी। एक प्राचीन मंदिर के अवशेषों में बबडी संरचना का पता लगाने में बीबी लाल का बड़ा योगदान था, जो राम मंदिर के समर्थन में एक प्रमुख तर्क था। सुप्रीम कोर्ट ने बाद में इन तमाम बिंदुओं पर गौर करने के बाद मंदिर के पक्ष में ही फैसला सुनाया।

किताब पर छिड़ी थी बहस

‘राम, हिज हिस्टोरिसिटी, मंदिर एंड सेतु : एविडेंस ऑफ लिटरेचर, आर्कियोलॉजी एंड अदर साइंसेज’ किताब के जरिए प्रो. बीबी लाल खासी चर्चा में आए थे। वर्ष 1990 में उन्होंने दावा किया कि बाबरी मस्जिद के नीचे मंदिर जैसे स्तंभ मिले हैं। उन्होंने अपने रिसर्च के आधार पर दावा किया कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद की नींव मंदिर रखी होगी।

किताब में प्रो. लाल ने लिखा है कि बाबरी मस्जिद के नीचे पत्थर के 12 स्तंभ उन्होंने खुदाई में पाए। ये स्तंभ मस्जिद संरचना सिद्धांत के बिल्कुल उलट थे। इन स्तंभों पर विशिष्ट हिंदू रूपांकन थे। मोल्डिंग और हिंदू देवताओं की आकृति भी उन्होंने देखे जाने का दावा किया। उन्होंने किताब में अपने रिसर्च के आधार पर दावा किया कि ये स्तंभ मस्जिद के अभिन्न अंग नहीं थे। ये स्तंभ मस्जिद से बिल्कुल अलग थे।

2021 में मिला पद्म विभूषण

प्रो. बीबी लाल को वर्ष 2021 में देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। तत्कालीन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें यह सम्मान प्रदान किया था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक पद पर रह चुके प्रो. लाल को लेकर पूर्व राष्ट्रपति ने कहा था कि उनकी खुदाई में पुरापाषाण काल से लेकर प्रारंभिक ऐतिहासिक कालीबंगा, अयोध्या, हस्तिनापुर, इंद्रप्रस्थ तक बहुत विस्तृत श्रृंखला शामिल है। उन्होंने कई ऐतिहासिक तथ्यों को जनता के बीच रखा।

पीएम ने जताया शोक

पीएम नरेंद्र मोदी ने सीनियर आर्कियोलॉजिस्ट प्रो. बीबी लाल के निधन पर शोक जाताया। उन्होंने कहा कि बीबी लाल एक बेहतरीन शख्सियत थे। कल्चर और आर्कियोलॉजी के क्षेत्र में उनका योगदान अतुलनीय है। उन्हें एक ऐसे बौद्धिक व्यक्तित्व के रूप में याद किया जाएगा जिनका हमारे समृद्ध अतीत से गहरा नाता था। पीएम ने ट्वीट में लिखा कि उनके निधन से गहरे सदमे में हूं। पीएम ने उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में सांत्वना दी। इसके अलावा अन्य नेताओं ने भी उनके निधन पर शोक जताया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

10,370FansLike
10,000FollowersFollow
1,124FollowersFollow

Latest Articles