चीनी सेना के बैकऑफ को लेकर असदुद्दीन ओवैसी का PM मोदी पर तंज- कोई घुसा नहीं तो पीछे कैसे हटा

New Delhi: भारत-चीन सीमा विवाद (India-China Border Dispute) के बीच सोमवार को दोनों देशों के सैनिकों के पीछे हटने को लेकर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। असदुद्दीन ओवैसी ने पूरे घटनाक्रम को लेकर तीन सवाल उठाए हैं।

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने समाचार एजेंसी एएनआई के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, पीएमओ इंडिया के मुताबिक, ना कोई घुसा है, ना कोई घुसा हुआ है तब ‘डी-एस्केलेशन (सेना का पीछे हटना)’ क्यों ? यह हैं तीन सवाल

  • किसी भी सूरत में ‘डी-एस्केलेशन’ का मतलब क्या है? चीन को वो करने देना चाहिए जो वह चाहता है।
  • पीएमओ इंडिया के मुताबिक, ना कोई घुसा है, ना कोई घुसा हुआ है तब “डी-एस्केलेशन” क्यों?
  • हम चीन पर भरोसा क्यों कर रहे हैं? जब 6 जून के समझौते के बाद हमारे साथ धोखा हुआ है। क्या चीन ने ‘डी-एस्केलेशन’ का वादा किया था?
कांग्रेस ने बोला हमला

उधर, इस घटनाक्रम पर कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने पीएम से माफी मांगने को कहा है। पवन खेड़ा ने कहा है कि पीएम मोदी अपने पुराने बयान पर माफी मांगे, जिसमें उन्होंने कहा था कि चीन हमारी सीमा के भीतर नहीं घुसा।

दरअसल चीन ने आधिकारिक बयान जारी करके कबूल किया है कि भारत के साथ बढ़ते तनाव को कम करने के लिए उसने अपनी सेना को पीछे हटाने का फैसला किया है। जिस पेट्रोलिंग प्वाइंट 14 को लेकर दोनों देशों की सेना आमने-सामने थी, वहां से दोनों के जवान कुछ किलोमीटर पीछे खिसक चुके हैं।

अब इस मामले में कांग्रेस ने नई मांग रख दी है। कांग्रेस का कहना है कि पीएम पिछले बयान पर माफी मांगे और खुद प्रधानमंत्री या रक्षा मंत्री देश की जनता के सामने आकर इस स्थिति को साफ करें कि अभी लद्दाख में क्या स्थिति है।

पीएम मोदी से माफी की मांग

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा यहीं पर नहीं रूके। उन्होंने कहा, ‘उन्होंने ये भी कहा कि ‘पीएम मोदी को इस मौके का फायदा उठाना चाहिए….राष्ट्र को संबोधित करना चाहिए, देश को विश्वास में लेना चाहिए, देश से माफी मांगनी चाहिए….कहें कि हां मुझसे गलती हो गई। मैंने आपको गुमराह किया या वो कोई दूसरे शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं कि अपने आकलन में मैं गलत था। ‘

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *