Amit Shah arrives in Ahmedabad on the occasion of Uttarayan

उत्तरायरण के पर्व पर अहमदाबाद पहुंचे अमित शाह, परिवार के साथ भगवान जगन्नाथ मंदिर में की पूजा

अहमदाबाद, 14 जनवरी (वेबवार्ता)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने गुरुवार को मकर संक्रांति और सूर्य के उत्तरायण के पर्व पर अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना की। शाह अपने परिवार के साथ मंदिर पहुंचे और भगवान जगन्नाथ की आरती और पूजा में शामिल हुए। इस दौरान शाह के साथ मंदिर के पुजारी समेत कई लोग मौजूद रहे। बता दें कि आज देशभर में मकर संक्रांति, उत्तरायण, पोंगल और असम बिहू की धूम है।


बता दें कि देशभर में मकर संक्रांति को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। गुजरात में इसे उत्तरायण के नाम से जाना जाता है तो पंजाब-हरियाणा में इसे खिचड़ी या मकर संक्रांति भी कहते हैं। गोवा, ओडिशा, बिहार, झारखंड, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, और जम्मू आदि प्रांतों में मकर संक्रांति कहते हैं। तमिलनाडु में इसे पोंगल के रूप में मनाते हैं।

उत्तरायण की मान्यता

मकर संक्रांति पर सूर्यदेव दक्षिणायण से उत्तरायण होते हैं। सूर्य का मकर रेखा से उत्तरी कर्क रेखा की ओर जाना ‘उत्तरायण ‘ तथा कर्क रेखा से दक्षिणी मकर रेखा की ओर जाना ‘दक्षिणायण’ कहलाता है। उत्तरायण काल को ऋषि मुनियों ने जप, तप और सिद्धि प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण माना है। इसे देवताओं का दिन माना जाता है। श्री मद्भागवत गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने भी कहा है कि उत्तरायण के छह माह में पृथ्वी प्रकाशमय होती है। भावात्मक रूप से उत्तरायण शुभ और प्रकाश का प्रतीक है इसलिए इस दिन लोग सुबह जल्दी उठकर स्नान करते हैं और मंदिरों में जाकर दान आदि देते हैं।

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं के साथ उड़ाई पतंग

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पतंगोत्सव के रूप में मशहूर गुजरात के प्रमुख पर्व उत्तरायण के मौके पर आज यहां एक ऊंची छत से समर्थकों के साथ न केवल पतंग उड़ाया बल्कि इसमें दांवपेंच की अपनी महारत दिखाते हुए कई पतंग भी काट डाले।

शाह भाजपा के अध्यक्ष और गांधीनगर लोकसभा क्षेत्र के सांसद भी हैं, पत्नी सोनलबेन के साथ अपने संसदीय क्षेत्र के तहत आने वाले वेजलपुर विधानसभा क्षेत्र के आनंदनगर में कनककला सोसायटी की एक अपाटर्मेंट की छत पर शाम सवा पांच बजे आये और पतंगबाजी का आनंद लिया। उनके साथ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी और कई विधायक और अन्य नेता भी थे। शाम सवा पांच बजे जब श्री शाह वहां पहुंचे तो बड़ी संख्या में मौजूद समर्थकों ने फूलों की पंखुड़यिां फेंक कर उनका स्वागत किया।

मूल रूप से अहमदाबाद के निवासी शाह हर साल उत्तरायण के मौके पर परिवारजनों और समर्थकों के साथ पतंग उड़ाते रहे हैं। छत पर चढ़े शाह की एक झलक पाने के लिए आसपास की इमारतों पर भी बड़ी संख्या में लोग जुट गये थे। शाह के साथ समर्थक दो तिरंगे लेकर भी चल रहे थे। उन्होंने हाथ हिला कर तथा विजय चिन्ह बनाते हुए लोगों का अभिवादन किया। उन्होंने पहले केसरिया गुब्बारे भी उड़ाये और बाद में उत्तरायण के मौके पर बनने वाली विशेष मिठाइयों का भी आनंद लिया।

इसके बाद जब वह पतंग उड़ाने उठे तो एक सामान्य गुजराती, जो उत्तरायण की पतंगबाजी के दौरान सबकुछ भूल कर उसमें ही तल्लीन हो जाता है, की तरह उसमे रम गये। उनकी फिरकी यानी डोर की रील पहले श्री वाघाणी ने पकड़ी थी पर बाद में इसे पत्नी सोनलबेन ने ले लिया। शाह ने खूब पेंच लड़ाये और कुछ पतंग भी काट डाले। लोगों ने ताली बजा कर उनका स्वागत किया। इससे पहले मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी अहमदाबाद में मेयर बीजलबेन पटेल के घर तथा एक अन्य स्थान पर तथा बाद में गृहनगर राजकोट में दोस्तो के साथ छत से पतंगबाजी का आनंद लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *