JP Verma

भारतीय कुशवाहा महासभा के वैध राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं जेपी वर्मा, कोर्ट ने चुनाव प्रक्रिया को भी बताया सही

Webvarta Desk: अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीप प्रसाद वर्मा (जेपी वर्मा) ने प्रेस क्लब में आयोजित एक प्रेस वार्ता में बताया कि झांसी मंडल के उपजिलाधिकारी न्यायालय में अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा के पदाधिकारियों के निर्वाचन से संबंधित एक केस चल रहा था। जिसमें डाक्टर मोती लाल कुशवाहा ने सात जनवरी 2017 को मध्यप्रदेश के विदिशा में हुए महासभा के पदाधिकारियों के निर्वाचन को चुनौती दी थी।

इस निर्वाचन में जेपी वर्मा को अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया था। जिसका निपटारा करते हुए न्यायालय ने 23 नवंबर 2020 को उतर प्रदेश सोसाइटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम के तहत जयदीप प्रसाद वर्मा (जेपी वर्मा), राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं उनकी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के चुनाव प्रक्रिया को सही ठहराया है। और उनके नेतृत्व में चल रहे अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा को वैध माना है।

जे पी वर्मा ने कहा कि केस चलने के दौरान देश भर में अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा के नाम से अनेकों लोग फर्जी संस्था बनाकर लोगों को गुमराह करने का काम कर रहे थे। लेकिन अब माननीय अदालत का फैसला आने के बाद ये सभी संस्थाएं और लोग फर्जी साबित हो गए हैं।

महासचिव नारायण सिंह कुशवाहा ने कहा कि अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा कोइरी, कुशवाहा,मौर्य, सैनी, शाक्य, आदि कही जानेवाली जाती की एक वृहद संस्था है। जिसके साथ इस जाति समूह के लोग देश के हर कोने से जुड़े हैं। महासभा का उद्देश्य समाज को संगठित करते हुए लोगों को सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक समेत शिक्षा, स्वास्थ्य, संस्कृति आदि क्षेत्रों में आगे बढ़ने में मदद और इसके लिए उचित माहौल बनाने का प्रयास करना है।

अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष डी के सिन्हा ने कहा कि जे पी वर्मा के पक्ष में अदालत का फैसला आने के बाद महासभा को लेकर कुशवाहा समाज में जो दुबिधा थी वह अब स्पष्ट हो गई है। उन्होंने कहा कि अब यह टीम पहले से कहीं अधिक मजबूती और उत्साह के साथ समाज और जन कल्याण के कार्यों में लगी रहेगी।

कोषाध्यक्ष शकुंतला कुशवाहा ने कहा कि अखिल भारतीय कुशवाहा महासभा पहले से हीं न सिर्फ कुशवाहा समाज बल्कि अन्य समाज के लोगों को भी सशक्त करने के लिए काम करता रहा है। उन्होंने कहा कि हम महिला शिक्षा और उन्हें आत्मनिर्भर बनने की दिशा में बढ़ने के लिए प्रेरित करते रहे हैं।

प्रेस वार्ता में जो लोग प्रमुख रूप से शामिल रहे उनमें दिनेश मेहता, अनिल सिन्हा, राकेश कुशवाहा, अंकित कुशवाहा, विनोद महतो, अमिताभ प्रसाद सिंह आदि के नाम शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *