दिल्ली AIIMS की लापरवाही पर बवाल! हिंदू परिवार को सौंपा मुस्लिम का शव, अंतिम संस्कार भी हो गया

New Delhi: देश के सबसे नामी अस्पताल एम्स (AIIMS Delhi) की एक बड़ी लापरवाही के कारण गाजियाबाद के एक हिन्दू परिवार ने अनजाने में एक मुस्लिम महिला का हिन्दू रिवाजों के अनुसार दाह संस्कार कर दिया।

मामले की जानकारी गाजियाबाद के परिवार को एम्स (AIIMS Delhi) अस्पताल से आए फोन कॉल से हुई, जिसमें महिला कुसुमलता के परिवार को फिर से शव ले जाने को कहा गया।अस्पताल की लापरवाही के चलते एक मुस्लिम परिवार को अपने घर के सदस्य की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार करने का हक़ भी नहीं मिल सका।

मामला गाजियाबाद के विजयनगर का है, जहां के कैलाशनगर कालोनी में रहने वाली कुसुमलता (52) की तबियत ख़राब होने के चलते परिजनों ने दिल्ली के एम्स अस्पताल (AIIMS Delhi) में भर्ती कराया था। सोमवार की शाम को कुसुमलता की इलाज के दौरान मौत हो गई। मंगलवार की सुबह एम्स ने एक शव कुसुमलता के परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

कोरोना पॉजिटिव थीं कुसुमलता

कुसुमलता की कोरोना की रिपोर्ट पॉज़िटिव होने के कारण शव को बैग में पैक किया गया था, शव देते समय तमाम औपचारिकताएं भी पूरी की गई। कुसुमलता के परिवारवालों ने शव का हिंदू रीति रिवाज से दिल्ली के पंजाबी बाग़ में अंतिम संस्कार कर दिया। चूंकि शव को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत बैग में पैक किया जा चुका था और उसे खोलने की अनुमति नहीं होती, लिहाजा परिवार ने अस्पताल पर भरोसा करते हुए उनका अंतिम संस्कार कर दिया।

दुबारा शव लेने बुलाया

कुसुमलता की बेटी मोहिनी ने बताया कि मंगलवार की शाम घर पहुंचने पर पिता को एम्स अस्पताल से फ़ोन आया। फ़ोन करने वाले ने उन्हें बताया कि कुसुमलता का शव बरेली निवासी अंजुम से बदल गया है। ग़लती के लिए माफ़ी मांगते हुए उन्होंने अस्पताल आकर कुसुमलता के शव को ले जाने को कहा। जिसके बाद बुधवार को फिर से परिजन एम्स गए और कुसुमलता के शव को लेकर उसका दिल्ली में अंतिम संस्कार किया।

मुस्लिम परिवार शव लेने पंहुचा तो हुआ लापरवाही का खुलासा

कुसुमलता के बेटी मोहिनी ने बताया कि बरेली की मुस्लिम महिला अंजुम भी अस्पताल में थीं, जिनकी मृत्यु हो गई थी। जब उनका परिवार उनके शव को लेने पंहुचा तो एम्स अस्पताल की इस लापरवाही का खुलासा हुआ। परिवार को जब ये पता लगा कि उनके परिजन का अंतिम संस्कार हिन्दू रीतिरिवाज से किया जा चुका है तो उन्होंने अस्पताल में जमकर हंगामा भी किया। जिसके बाद उन्हें समझाकर शांत कराया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *