Thursday, June 23, 2022
Homeराष्ट्रीयदंगे संचालित करने वाले संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जाए : जमीयत...

दंगे संचालित करने वाले संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की जाए : जमीयत उलेमा-ए-हिंद

-जमीयत उलेमा-ए-हिंद के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने करोली के दंगा प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया

-जिला प्रशासन से मुलाकात की और पीड़ितों को कानूनी और कल्याणकारी सहायता का आश्वासन दिया

करोली/नई दिल्ली, 17 मई (वेब वार्ता)। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद असद मदनी के निर्देश पर जमीयत उलेमा-ए-हिंद के एक प्रतिनिधिमंडल ने करोली (राजस्थान) के दंगा प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया और पीड़ितों से मुलाकात कर के जमीयत उलेमा-ए-हिंद की तरफ से कानूनी और आर्थिक मदद का आश्वासन दिया। साथ ही वहां पुनर्वास कार्यों की भी समीक्षा की जो स्थानीय तौर पर किए जा रहे हैं।

ज्ञात हो कि 2 अप्रैल 2022 को शोभा यात्रा के जुलूस की वजह से शहर में साम्प्रदायिक हिंसा के घटनाएं हुईं जिसके कारण काफी समय से कर्फ्यू लगा रहा। इस दंगे में बदमाशों ने 77 दुकानों को जला कर राख कर दिया, जिसमें 67 दुकानें मुस्लिम अल्पसंख्यकों की हैं। इसके अतिरिक्त बड़ी संख्या में लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें दोनों पक्ष के लोग शामिल हैं।

Jamiat Ulema-e-Hindप्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने किया। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रतिनिधिमंडल ने करोली के एसपी शैलेंद्र सिंह इंदोलिया और डीएम अंकित कुमार से मुलाकात की। इस मौके पर मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने पुलिस प्रशासन के सामने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था बहुत मुश्किल दौर से गुजर रही है। ऐसे में इतनी बड़ी तादाद में दुकानों को आग के हवाले करने का सबसे बड़ा नुकसान हिंदू और मुसलमानों का नहीं, बल्कि इस देश का है। कोई भी देश हवा में नहीं बनता, बल्कि इसके निर्माण में लोग, घर, दुकान, शहर और कस्बा, पेड़, सड़क, गाड़ी, सब शामिल होते हैं। इनमें किसी को भी नुकसान पहुंचाना, वतन को नुकसान पहुंचाना है। यहां जो कुछ हुआ है, उसका वास्तविक नुकसान भारत को हुआ है।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद इस सच्चाई को व्यक्त करती है कि दंगों के लिए मूलतः जिम्मेदार जिला प्रशासन को ठहराया जाए क्योंकि इसकी लापरवाही और अक्षमता की वजह से आग शोले का रूप धारण करते हैं। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना हकीमद्दीन कासमी ने एसपी से पूछा कि आखिर किस तरह से 20 सालों बाद इस संवेदनशील क्षेत्र में रैली की अनुमति दी गई और वह भी ऐसी रैली में जिसमें डीजे पर भड़काऊ नारे लगाए गए। सरकार और प्रशासन को हमेशा संवेदनशील क्षेत्रों के प्रति सतर्क और जागरूक रहना चाहिए और ऐसे सांप्रदायिक तत्वों को कभी भी रैलियां करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

Jamiat Ulema-e-Hindप्रतिनिधिमंडल ने नोट किया कि इस क्षेत्र में राजनीतिक कारणों के आधार पर भी दंगेऔर भड़के, विशेष रूप से दोनों समुदायों के बीच की खाई को चौड़ा करने के लिए झूठी और निराधार बातें फैलाई गईं कि इस क्षेत्र से गैर-मुस्लिम पलायन कर रहे हैं, जिसे जिला प्रशासन ने झूठा करार दिया। प्रतिनिधिमंडल ने मांग की कि दंगा फैलाने वाले लोगों पर कार्रवाई से ज्यादा जरूरी है कि उन संगठनों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए जो दंगों को संचालित करते हैं और एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर प्रभावी कार्रवाई की जाए।

मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने इस अवसर पर याद किया कि हज़रत मौलाना सैयद असद मदनी नूरुल्ला (जमीयत उलेमा-ए-हिंद के पूर्व अध्यक्ष) इस शहर का कई मौकों पर दौरा करते थे। उनके संदेश यहां के लोगों के लिए महत्वपूर्ण होते थे। जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रतिनिधिमंडल में महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी के अलावा, जमीयत उलेमा-ए-हिंद के वरिष्ठ आयोजक मौलाना गय्यूर अहमद कासमी, जमीयत उलेमा-ए-राजस्थान के उपाध्यक्ष मौलाना नोमान, मौलाना मुहम्मद यूनिस सीकड़, जिला करोली के अध्यक्ष मौलाना अनीस, करोली के उपसचिव हाफिज लुकमान, जमीयत उलेमा सवई माधोपुर के अध्यक्ष मौलाना महबूब, हाफिज बाबुद्दीन, मुफ्ती इस्लाम, हाफिज लियाकत, हाजी अब्दुलहई इत्यादि शामिल थे।

ये भी देखें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

आप हमें फॉलो भी कर सकते है

10,445FansLike
10,000FollowersFollow
3,000FollowersFollow
10,000FollowersFollow
2,458FollowersFollow
5,000SubscribersSubscribe
- Advertisment -

यह भी पढ़ें

Recent Comments

//eephaush.com/4/3871993